सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

अलविदा CDS जनरल रावत... रक्षा मंत्री की मौजूदगी में पूरे सैन्य सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

 


 देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल बिपिन रावत पंचतत्व में विलीन हो हो गए। उनके साथ उनकी अर्धांगिनी मधुलिका रावत का भी अंतिम संस्कार किया गया। दोनों का अंतिम संस्कार दिल्ली कैंट स्थित बरार स्क्वायर में पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया। इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद रहे। अंतिम संस्कार की जो रीति-रिवाज थी, उन्हें उनकी दोनों बेटियों कृतिका और तारिणी ने पूरा किया। परिवार के अन्य सदस्य भी उन्हें अंतिम विदाई देने में शामिल हुए। लगभग 800 सैन्यकर्मियों के साथ, राजनाथ सिंह, कानून मंत्री किरेन रिजिजू, भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनिन और भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस भी भारत के पहले सीडीएस के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए अंत्येष्टि स्थल पर मौजूद रहे।देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल बिपिन रावत पंचतत्व में विलीन हो हो गए। उनके साथ उनकी अर्धांगिनी मधुलिका रावत का भी अंतिम संस्कार किया गया। दोनों का अंतिम संस्कार दिल्ली कैंट स्थित बरार स्क्वायर में पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया। इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद रहे। 


जनरल रावत के गृह राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी मौजूद रहे। बरार स्क्वायर पर भी पूर्व सैनिकों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। जनरल रावत को 17 तोपों की सलामी दी गई। अंतिम यात्रा में उमड़े लोगों के हुजूम ने ‘भारत माता की जय’, ‘वंदे मातरम’ और ‘जनरल रावत अमर रहें’ जैसे नारे लगाए। इससे पहले जनरल रावत की अंतिम यात्रा यहां उनके आधिकारिक आवास से शुरू हुई। रास्ते में हजारों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। अंतिम यात्रा में उमड़े लोगों के हुजूम ने ‘भारत माता की जय’, ‘वंदे मातरम’ और ‘जनरल रावत अमर रहें’ जैसे नारे लगाए। आम लोग फूलों से सजे उस वाहन के साथ दौड़ते नजर आए जिसमें जनरल रावत और उनकी पत्नी का शव रखा था। रास्ते में लोगों ने अपने वाहन रोककर भी देश के सबसे बड़े सैन्य अधिकारी को नम आंखों से विदाई दी। 
Sources:PrabhaShakshi Samachar

टिप्पणियाँ

Popular Post