सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

दिल्ली रोहणी कोर्ट ब्लास्ट: महज 15 फुट दूर रखा था जज की कुर्सी से टिफिन बम,खौफ बढ़ा रहे चश्मदीदों के बयान

 


 देश की राजधानी दिल्ली की रोहिणी अदालत में गुरुवार सुबह कोर्ट संख्या 102 में धमाका हो गया। इसके बाद कोर्ट रूम में अफरा-तफरी मच गई। अदालत में मौजूद लोग भागने लगे। धमाके में कोर्ट रूम में मौजूद एक सिपाही घायल हो गया। इसे कैट्स एंबुलेंस से तुरंत पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया। धमाका लोगों के बैठने के लिए लगाए गए कुर्सी के पीछे हुआ। घटना की जानकारी मिलते ही जिला पुलिस उपायुक्त समेत सभी आला अधिकारी, स्पेशल सेल के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। मौके पर बम निरोधक दस्ता, एनएसजी की टीम और फोरेंसिक टीम को बुला लिया गया। पुलिस को मौके से क्षतिग्रस्त लैपटॉप, सफेद पाउडर, टिफिननुमा एक चीज, पेंच और कलपुर्जे और तार मिले। फोरेंसिक टीम ने बरामद चीजों को जब्त कर जांच में जुट गई है। छानबीन के बाद पुलिस अधिकारियों ने इसे कम क्षमता वाला विस्फोट बताया। पुलिस के मुताबिक, यह एक तरह का क्रूड बम था। धमाका लैपटॉप बैग में हुआ है। इसमें किस तरह के विस्फोटक रखे गए थे, इसकी जांच की जा रही है। छानबीन के दौरान पुलिस ने परिसर में लगे सभी सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को कब्जे में कर आरोपी की पहचान करने में जुट गई है। रोहिणी कोर्ट में धमाका करने के लिए अमोनिया नाइट्रेट का इस्तेमाल हुआ है। जांच एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि अक्सर आतंकी दहशत फैलाने के लिए अमोनिया नाइट्रेट का सहारा लेते हैं। सस्ते और आसानी से मिलने की वजह से भारत में लंबे समय तक इसे बम बनाने में इस्तेमाल किया जाता रहा है। जांच के दौरान पुलिस को मौके से टिफिन मिला है। आशंका जताई जा रही है कि आरोपी लैपटॉप बैग में टिफिन में विस्फोटक रखकर लाया होगा। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक बैग को जज के बैठने के स्थान से करीब 15 फुट दूरी पर कुर्सी के पास रखा गया था।सूत्रों का कहना है कि कोर्ट रूम में अगर भीड़ होती तो कई लोगों की जान जा सकती थी। क्योंकि विस्फोट वाली जगह पर एक इंच वाले कई स्क्रू मिले हैं। साथ ही सफेद पाउडर भी मिला है।  विस्फोटक में काफी मात्रा में स्क्रू का इस्तेमाल किया गया था।  दूरी पर गिरा। मौके से कुछ तार और कांच के टुकडे भी मिले हैं। पुलिस को अंदेशा है कि धमाका किसी डिवाइस के जरिए किया गया है। जांच के दौरान सुरक्षा एजेंसी घटना में घायल सिपाही और अन्य चश्मदीदों से पूछताछ कर जानकारी हासिल करने में जुटी है। शुरुआती पूछताछ में पता चला कि कोर्ट की सुनवाई शुरू होने से पहले सफाई कर्मी वहां से सफाई करके गया था। लेकिन उसने कोई बैग नहीं देखा था। कार्रवाई शुरू होने के बाद किसी ने बैग रखा और वहां से गायब हो गया।



टिप्पणियाँ

Popular Post