सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरक की घर वापसी, बहू अनुकृति ने भी थामा कांग्रेस का हाथ

देहरादून: पांच दिनों तक मचे सियासी घमासान के बाद आखिरकार पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने आज दिल्‍ली में कांग्रेस का दामन थाम लिया।  इस दौरान पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश का विकास मेरा लक्ष्‍य है। उन्होंने कहा कि मैं बिना शर्त कांग्रेस परिवार में शामिल हुआ हूं।हरक ने कहा मैंने 20 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया है। मैं सोनिया गांधी का एहसान किसी भी कीमत पर नहीं भूलूंगा । वहीं देर आयद दुरूस्त आये की कहावत चरितार्थ करते हुये कांग्रेस में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की वापसी पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की आपत्ति के बाद पेच फंसा हुआ था । हालांकि सरकार तोडने में हरक की भूमिका जिसमे उन्होंने वर्ष 2016 में बगावत कर उनकी सरकार गिराई भी हरीश रावत बहुत नाराज थे जिसको लेकर हरीश रावत के तीखे तेवरों में अभी कमी नहीं आई है। वह हरक सिंह रावत को लोकतंत्र का गुनहगार बताते हुए पहले माफी मांगने पर जोर देते रहे। लेकिन हरीश रावत कह चुके थे कि हरक की

आंदोलन खत्म: अब जाम से मिलेगी निजात,किसानों की घर वापसी शुरू,टिकरी.सिंघु बॉर्डर से लौटने लगे किसान

 


 किसानों की मांगें पूरा करने के सरकार के वादे के बाद एक साल से अधिक समय से जारी किसान आंदोलन अब खत्म हो गया है। संयुक्त किसान मोर्चा के आंदोलन खत्म करने के ऐलान के बाद टिकरी और सिंघु बॉर्डर से किसानों की घर वापसी शुरू हो गई है। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के धरना वापस लेने के फैसले की जानकारी मिलने के बाद पिछले एक साल से टिकरी सीमा पर डेरा डाले सैकड़ों किसान गुरुवार को अपने घर के लिए रवाना हो गए। हालांकि, संयुक्त किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि वे 11 दिसंबर को जश्न मनाने के बाद घर वापस जाएंगे।ट्रिब्यून इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, किसानों के पहले जत्थे में घर लौटने वाले पठानकोट, अमृतसर, तरनतारन, गुरदासपुर, होशियारपुर और फिरोजपुर जैसे दूर-दराज के स्थानों के थे, जबकि उनमें से अधिकांश ने आज सुबह (शुक्रवार) जल्दी वापस जाने के लिए अपना सामान पैक किया। जब मंच से आंदोलन खत्म करने का ऐलान किया गया तो मुख्य प्रदर्शन स्थल पर किसानों ने जीत का जश्न मनाया और मंच पर डांस भी किया। अमृतसर के रहने वाले किसान हरविंदर ने ट्रिब्यून इंडिया से कहा कि कल केंद्र द्वारा हमारी सभी मांगों को स्वीकार करने के बाद हम आज घर वापस जाने के बारे में आश्वस्त थे, इसलिए हमने पैकिंग कर ली थी। जैसे ही एसकेएम ने सिंघू सीमा से आंदोलन को वापस लेने की घोषणा की, हमने इन्हें ट्रैक्टर-ट्रेलरों और अन्य वाहनों पर लाद दिया। वहीं, गुरदासपुर के गुरजीत ने कहा कि उन्होंने अपने परिवार के अन्य सदस्यों को कल पंजाब से टिकरी बुलाया था ताकि वे हमारा सामान और अन्य सामान वापस वाहनों में ले जा सकें। उन्होंने कहा कि कुछ किसानों ने पहले अपने ट्रैक्टरों को कृषि उद्देश्यों के लिए गांव वापस भेज दिया था और उनके ट्रेलर सीमा पर खड़े थे, इसलिए वे भी ट्रेलरों को घर वापस ले जाने के लिए यहां ट्रैक्टर लाए।

टिप्पणियाँ

Popular Post