सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

उत्तराखंड में कोरोना के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन की दस्तक, सैंपलों में डेल्टा प्लस कंफर्म

 


 दून मेडिकल कॉलेज में जीनोम सिक्वेंसिंग के दूसरे बैच की भी रिपोर्ट आ गई। इसमें नये वेरिएंट की पुष्टि नहीं हुई। हालांकि, चिंता की बात है कि सभी सैंपलों में डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट मिला है। दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने बताया कि प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर डॉ. शेखर पाल, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सुनील कुमार दहिया की अगुवाई में वॉयरोलॉजी लैब में जीनोम सिक्वेंसिंग की गई थी। पहले बैच में 18 सैंपलों की रिपोर्ट के बाद अब दूसरे बैच के 80 सैंपलों की रिपोर्ट आ गई है। इसमें कोरोना का कोई नया वेरिएंट नहीं मिला, पर अभी भी सजग रहने की जरूरत है। दूसरे बैच में नैनीताल के 35, हरिद्वार के एक, टिहरी के दो, अल्मोड़ा के पांच और देहरादून के 37 सैंपल थे।लखनऊ और दिल्ली से ट्रेनिंग से लौटे आईएफएस संक्रमित पाए जाने के बाद उनके सैंपलों की भी जीनोम सिक्वेंसिंग करवाई गई थी। आठ आईएफएस के सैंपलों की रिपोर्ट में भी पुराने वेरिएंट ही मिले हैं। इसकी रिपोर्ट आईडीएसपी और संस्थान को दे दी गई है।दून मेडिकल कॉलेज में ही अभी जीनोम सिक्वेंसिंग की जा रही है। पर, जिलों से सैंपल भेजने में कंजूसी की जा रही है। प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने कहा कि सभी जिलों की लैबों को रिमाइंडर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि ऋषिकेश एम्स से तो एक भी सैंपल नहीं आया है।दून मेडिकल कॉलेज की वीआरडीएल लैब के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर डॉ. शेखर पाल और असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सुनील दहिया ने बताया कि जीनोम सिक्वेंसिंग की एक प्रक्रिया में चार दिन लगते हैं। यह किसी वायरस का प्रोफाइल होता है। कोई वायरस कैसा है, किस तरह का दिखता है, इसकी जानकारी जीनोम से ही मिलती है। इसी वायरस के विशाल समूह को जीनोम कहा जाता है। वायरस के बारे में जानने की विधि को जीनोम सिक्वेंसिंग कहते हैं। इससे ही कोरोना के नए स्ट्रेन के बारे में जानकारी मिलती है। 20 या 80 सैंपलों की चिप लगाकर जांच की जाती है। 

टिप्पणियाँ

Popular Post