सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

तमिलनाडु हादसा: गठित की गई ट्राई.सर्विस कोर्ट ऑफ इंक्वायरी, सभी तथ्य आएंगे सामने : वायुसेना

 


 नयी दिल्ली /  तमिलनाडु हेलीकॉप्टर हादसे को लेकर किए जा रहे तरह-तरह के दावों के बीच शुक्रवार को भारतीय वायुसेना (IAF) का बयान सामने आया है। जिसमें कहा गया है कि भारतीय वायुसेना ने 08 दिसंबर,2021 को हुए दुखद हेलीकॉप्टर हादसे के कारणों की जांच के लिए एक ट्राई-सर्विस कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का गठन किया है। जांच तेजी से पूरी की जाएगी और तथ्यों को सामने लाया जाएगा। तब तक मृतक की गरिमा का सम्मान करने के लिए बेबुनियाद अटकलों से बचा जा सकता है।IAF has constituted a tri-service Court of Inquiry to investigate the cause of the tragic helicopter accident on 08 Dec 21. The inquiry would be completed expeditiously & facts brought out. Till then, to respect the dignity of the deceased, uninformed speculation may be avoided.

आपको बता दें कि तमिलनाडु के कन्नूर में बुधवार की दोपहर वायुसेना का एमआई17वी5 हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया। इस हेलीकॉप्टर में भारत के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैन्यकर्मी सवार थे। जिनमें से 13 की मौत हो गई और एकमात्र बचे शख्स ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की हालत काफी ज्यादा खराब है और उन्हें बेहतर इलाज के लिए वेलिंगटन से बेंगलुरू के कमांड हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया है।

टिप्पणियाँ

Popular Post