सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

कांग्रेस का सरकार के बजट पर वार जारी, कहा- वन नेशन का नारा बजट में नहीं दिखा

जयपुर / कांग्रेस ने आम बजट को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मंगलवार को यहां कहा कि वन नेशन का नारा इस बजट में कहीं नजर नहीं आया और इसमें बस उन राज्यों का जिक्र है जहां चुनाव होने हैं। इसके साथ ही पार्टी ने कहा है कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण परिणाम देने में विफल रही हैं। सोमवार को पेश बजट के बारे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष पवन बंसल ने यहां संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री और भाजपा एक राष्ट्र की बात तो करते हैं लेकिन पहली बार किसी आम बजट में एक राष्ट्र नजर नहीं आया। बंसल ने कहा कि बजट पूरे देश के लिये होता है लेकिन इस बार अब यह नजर नहीं आया। जब बिहार में चुनाव होने थे तब प्रधानमंत्री ने कहा भाजपा को वोट दो वैक्सीन मिलेगी.. कहां मिली बिहार के लोगों को वैक्सीन ... चुनाव के बाद वो भूल गये।उन्होंने कहा , अब असम, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु में चुनाव होने हैं... आज बजट में जिक्र इन्हीं चारों प्रांतों का हो रहा है। जैसे चुनाव के बाद बिहार को भूल गये आज राजस्थान का जिक्र नहीं है, जिक्र बस उन चार राज्यों का किया है। कांग्रेस नेता के अनुसार बजट में चुनावी राज्यों को गुमराह करने की कोशिश की गई है... कोरोनाकाल में अमीरों की आमदनी बढ़ी है गरीबों की नहीं। वित्तमंत्री सीतारमण पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए बंसल ने कहा, जहां तक किसी मंत्री के अच्छे प्रदर्शन का सवाल है यह प्रधानमंत्री का अधिकार होता है कि उसे रखना है या नहीं... हमें कोई आपत्ति नहीं कि कौन मंत्री है.. हम प्रदर्शन चाहते हैं.. हम परिणाम चाहते है... देश परिणाम चाहता है यह सरकार परिणाम देने में असफल रही है... वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण परिणाम देने में असफल रही हैं... यदि वह मंत्री पद पर बनी रहती है तो यह उनका अपना अधिकार है, लेकिन जनता को अब यह अहसास हो रहा है।’ उन्होंने कहा कि जनता को बजट में सरकार से मदद की आवश्यकता थी लेकिन उसे निराशा मिली। केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलनरत किसानों को रोकने के लिए टीकरी और सिंघु सीमाओं पर लगाये गये अवरोधकों के सवाल पर बंसल ने कहा, ‘‘‘इस सरकार ने किसानों के खिलाफ आंतक फैलाने का काम किया है.. किसान बहुत शांतिपूर्ण और अच्छे तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘केन्द्र सरकार ने लालकिले में कुछ बदमाशों को प्रवेश करने दिया जिससे वहां परेशानी उत्पन्न हुई और यदि आंदोलित किसानों का इस तरह का इरादा होता तो लालकिले पर बडी संख्या में जाते... सीमाओं पर लाखों किसान मौजूद थे। उन्होंने शांतिपूर्ण तरीके को अपनाया।’’ राज्य में हाल ही में समपन्न निकाय चुनावों में कांग्रेस के अच्छे प्रदर्शन पर उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को बधाई दी जो इस अवसर पर मौजूद थे। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post