सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरियाणा में बड़ा हादसा, दो कारों में टक्कर, 6 लोगों की मौत

    हरियाणा : कैथल में आज सुबह-सुबह एक बड़ा हादसा हो गया। कैथल में मंगलवार की सुबह दो कारें आपस में टकरा गईं, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई। यह घटना कैथल जिले के पाई गांव की है, जहां आज सुबह करीब सात बजे आई-10 और स्विफ्ट डिजायर कार में आमने-सामने से जोरदार टक्कर हुई। इस हादसे में चार लोग घायल हुए हैं, जिनका कैथल सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है।  पुलिस ने बताया कि आई-10 में सवार छह लोग शादी में शामिल होकर पुंडरी लौट रहे थे, जबकि डिजायर में चार सवार कुरुक्षेत्र से कैथल के मल्हार गांव जा रहे थे। आई-10 में यात्रा करने वाले चार मृतकों की पहचान बरेली निवासी सत्यम (26), पुंडरी के रमेश (55), नरवाना के अनिल (55) और हिसार के शिवम (20)  के रूप में हुई है। वहीं, अन्य दो मृतक डिजायर में सफर कर रहे थे, जिनकी पहचान विनोद (34) और पत्नी राजबाला (27) के रूप में हुई है। ये दोनों मल्हार गांव के थे। इनके सात साल के बेटे विराज को चोटें आईं हैं। इसके अलावा, उसी गांव के सोनिया भी घायल हुई हैं।  आई-10 में सफर कर रहे पुंडरी के सतीश और नरवाना के बलराज भी घायल हो गए हैं। इन सभी घायलों का इलाज कैथल सिविल अस्पताल मे

रक्षा मंत्रालय ने जारी किया आदेश,11 फरवरी को भंग हो जाएंगे कैंट बोर्ड

देहरादून / ्तराखंड के नौ कैंट बोर्ड सहित देशभर की 56 छावनी परिषद का कार्यकाल 11 फरवरी को समाप्त हो जाएगा। कैंट बोर्ड भंग करने का रक्षा मंत्रालय ने आदेश जारी कर दिया है। बता दें कि देश के 56 छावनी परिषद में छह साल पहले चुनाव के बाद बोर्ड का गठन हुआ था। पांच वर्ष पूरे होने पर इन्हें छह महीने का एक्सटेंशन दिया गया। छह माह बाद दूसरा एक्सटेंशन दिया गया। यह अवधि 10 फरवरी को पूरी होना जा रही है। छावनी अधिनियम के तहत बोर्ड को दो बार ही बढ़ाया जा सकता है। ऐसे में अब 10 फरवरी को देशभर के 56 कैंट बोर्ड में चुने गए बोर्ड भंग हो जाएंगे। उत्तराखंड में नौ कैंट बोर्ड हैं, जिनमें देहरादून में चार गढ़ी कैंट, क्लेमेनटाउन कैंट, चकराता और लंढौर के अलावा रुड़की, लैंसडोन, नैनीताल, रानीखेत और अल्मोड़ा शामिल हैं। क्लेमेनटाउन छावनी परिषद के मुख्य अधिशासी अधिकारी अभिषेक राठौर ने इस संबंध में आदेश जारी होने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस स्टेट्स से एडिशनल डीजी कैंट दमन सिंह ने आदेश जारी किया है। बोर्ड भंग होने के बाद छावनी परिषद के निर्वाचित सभासदों व उपाध्यक्षों की शक्तियां खत्म हो जाएंगी और नए बोर्ड के गठन के लिए चुनाव प्रक्रिया शुरू होगी। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव

चित्र

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश