सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

देहरादून: मिस फ्रेश फेस सब-टाइटल के लिए आकर्षक लुक में उतरीं मॉडल

  सिनमिट कम्युनिकेशंस की ओर से एस्ले-हॉल स्थित कमल ज्वेलर्स में मिस उत्तराखंड-2021 के फर्स्ट सब-टाइटल का आयोजन किया गया। इस मौके पर 27 मॉडल्स फ्रेश फेस की रेस में शामिल रहीं। हालांकि इसका अनाउंसमेंट ग्रैंड फिनाले वाले दिन ही किया जाएगा।मंगलवार को आयोजित मिस फ्रेश फेस सब-टाइटल को लेकर जजेज ने मॉडल्स को मार्क्स दिए। वहीं मॉडल्स भी फेस को बेहद आकर्षक बनाकर सामने आई। इस मौके पर देहरादून, उत्तरकाशी, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, टिहरी, पौड़ी, धारचूला आदि जगहों की प्रतिभागियों ने इसमें हिस्सा लिया। जजेस में मिस ब्यूटीफुल आइज-2019 प्रीति रावत, डायरेक्टर कमल ज्वेलर्स और मिस फैशन दिवा-2019 बबीता बिष्ट शामिल रहीं। इस मौके पर आयोजक दिलीप सिंधी ने बताया कि इन मॉडल्स के कॉन्फिडेन्स को बढ़ाने के लिए अब ग्रूमिंग क्लासेज शुरू हो गयी है। जिसमें ड्रेस, मेकअप से लेकर उनकी कम्युनिकेशन स्किल्स राउंड को निखारा जा रहा है।बताया कि आयोजन का ग्रैंड फिनाले दिसंबर में होगा। आयोजक राजीव मित्तल ने बताया कि पिछले साल कोरोना की वजह से आयोजन पर ब्रेक लग गया था। बताया कि अलग-अलग राउंड के बाद इसका ग्रैंड फिनाले होगा। इस मौके पर

इस पहल से दुनिया भर में वायु गुणवत्ता को ट्रैक करना हुआ सस्ता

Climate कहानी ताज़ा वैश्विक आंकड़ों पर नज़र डालें तो पता चलता है कि दुनिया का 90% हिस्सा वायु प्रदूषण के हानिकारक स्तरों से ग्रस्त हैं। और ऐसे में जब भारत सरकार ने अपने ताज़ा बजट में वायु प्रदूषण से लड़ाई के लिए 2217 करोड़ खर्चने का प्रस्ताव किया है और पुराणी गाड़ियों के निस्तारण के लिए नीति बनाने की बात की है, तब कुछ उम्मीद बंधती है। लेकिन सिर्फ इतना काफ़ी नहीं। क्योंकि समस्या का स्वरुप बड़ा है। ओपनऐक्यू (OpenAQ), जो कि एक वैश्विक नॉन प्रॉफिट गैर सरकारी संगठन है, ने आज एक नए पायलट प्लेटफॉर्म की घोषणा की है जो कि कम लागत वाले सेंसर को एकीकृत कर स्थानीय समुदायों में नागरिकों को वायु गुणवत्ता को ट्रैक करने और वायु प्रदूषण से लड़ने में सक्षम बनाएगा। OpenAQ के आंकड़ों के मुताबिक़ दुनिया के सबसे बड़े शहरों में हाल ही में हुई एक जांच में पता चला है कि PM2.5 वायु प्रदूषण का औसत वार्षिक स्तर विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा-निर्देशों (10 ug / m3) से लगभग 4 गुना अधिक था। इनमें सबसे ज्यादा प्रभावित शहर एशिया में थे - लाहौर (पाकिस्तान), दिल्ली (भारत), ढाका (बांग्लादेश), अहमदाबाद (भारत) और शीआन (चीन) में उच्चतम स्तरों का मापन किया गया। डाटा वायु प्रदूषण की निरा वैश्विक असमानताओं को दर्शाता है, जिसे दुनिया भर के समुदायों को कम लागत के प्रदूषण सेंसर प्रदान करके संबोधित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, दिल्ली में दर्ज PM2.5 का स्तर न्यूयॉर्क शहर में सिर्फ 7.7 की तुलना में 102 था। गैर-सरकारी संगठनों का एक गठबंधन कम लागत वाले वायु सेंसर का उपयोग करके एक नए खुले स्रोत डाटा प्लेटफॉर्म के माध्यम से वायु प्रदूषण असमानता को संबोधित कर रहा है। पर्यावरण रक्षा कोष (EDF) के साथ विकसित, पायलट को OpenAQ.org पर होस्ट किया गया है और यह दुनिया भर में संदर्भ ग्रेड वायु गुणवत्ता डाटा के साथ-साथ नए, कम लागत वाले सेंसर डाटा, दोनों के लिए शोध वैज्ञानिकों, गैर सरकारी संगठनों और व्यक्तियों के उपयोग के लिए एक पोर्टल प्रदान करता है। प्लेटफॉर्म EDF के एयर क्वालिटी डेटा कॉमन्स के साथ पर्पल एयर, हैबिटैटमैप और कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी से कम लागत वाले सेंसर वायु गुणवत्ता डाटा को एक साथ लाता है। OpenAQ प्लेटफ़ॉर्म पहले से ही 99 देशों में 11,000+ स्टेशनों से तीन चौथाई बिलियन (750 मिलियन) से अधिक डेटा पॉइंट रखता है। नया पायलट लो-कॉस्ट सेंसर डाटा को खोजने और समझने के लिए एक नया डैशबोर्ड प्रदान करता है, साथ ही ओपनएक्यू (OpenAQ) की वेबसाइट और प्लेटफ़ॉर्म पर पहले उपलब्ध सभी डाटा भी एक एपीआई (API) के माध्यम से उपलब्ध करता है। ऐसे समय पर जब सार्वजनिक स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण के प्रभाव, जिसमें कोविड-19 के निदान वाले व्यक्तियों को प्रस्तुत चुनौतियों शामिल है, ध्यान में आये है, नया ओपनऐक्यू (OpenAQ) प्लेटफॉर्म शहरों, सरकारों और समुदायों के लिए एक संसाधन होगा। जैसा कि दुनिया भर के देशों ने जलवायु परिवर्तन लक्ष्यों को प्राथमिकता देने वाली महामारी से उबरने की योजना बनाई है, वायु प्रदूषण से निपटना एक महत्वपूर्ण प्राथमिकता होगी। ओपनऐक्यू (OpenAQ) का डाटा प्लेटफ़ॉर्म सरकारों और समुदायों को इन प्रयासों को ट्रैक करने और नीतियों और कार्यक्रमों को सूचित करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण देगा। ओपनऐक्यू (OpenAQ) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, दुनिया की आधी से अधिक आबादी की वायु गुणवत्ता पर आधिकारिक सरकारी डाटा तक कोई पहुंच नहीं है। अध्ययन, शीर्षक 'ओपन एयर क्वालिटी डेटा: द ग्लोबल स्टेट ऑफ़ प्ले ’ द्वारा 212 देशों की जाँच की गई और पाया गया कि 109 (51%) सरकारें किसी भी बड़े प्रदूषक के वायु गुणवत्ता के डाटा का उत्पादन नहीं कर रही हैं, जबकि 103 ऐसा कर रहीं हैं हैं। ओपनऐक्यू (OpenAQ) ने सरकारों द्वारा वायु गुणवत्ता निगरानी की एक पूरी सूची प्रकाशित की है। कम लागत वाले सेंसर एक नई वायु गुणवत्ता निगरानी तकनीक है जो अधिक पारंपरिक और महंगे संदर्भ ग्रेड मॉनिटर को पूरक करते हैं और डाटा अंतराल को संबोधित करने में मदद करते हैं। जबकि कीमतें अलग-अलग हो सकती हैं, एक संदर्भ ग्रेड मॉनिटर के लिए अमेरिकी डॉलर के 10,000 के बनाम, यह अक्सर 100 या 1,000 की सीमा में होती है। नागरिकों, नीति निर्धारकों और गैर-सरकारी संगठनों को अधिक संख्या में वायु गुणवत्ता के आंकड़ों के लिए कवरेज और पहुंच में वृद्धि के लिए, कम लागत वाली सेंसर इकाइयां व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं, समुदायों और साथ ही सरकारों द्वारा स्थापित की जा सकती हैं। उनके छोटे आकार की वजह से वे मोबाइल या एक जगह (स्थिर) हो सकते हैं। अपनी प्रतिक्रिया देते हुए OpenAQ के कार्यकारी निदेशक, जेरेमी टौब, ने कहा, “हम वायु गुणवत्ता की निगरानी के लिए नए, किफायती समाधानों को प्रोत्साहित करना चाहते हैं और उस डाटा को ओपनऐक्यू (OpenAQ) में लाना चाहते हैं ताकि उन समुदायों के लिए वित्त पोषण और कार्रवाई बढ़ सके जो वायु प्रदूषण से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। यह महत्वपूर्ण डाटा अंतराल को भर देगा जिससे समुदायों को वायु प्रदूषण के समाधान विकसित करने की अनुमति मिलेगी।” आगे, पर्यावरण रक्षा कोष में एसोसिएट उपाध्यक्ष, मिल्ली चू बेयर्ड, कहते हैं, “वायु प्रदूषण असमानता से लड़ने का एक तरीक़ा डाटा पारदर्शिता है - यह सुनिश्चित करना कि जितने लोगों की विस्तृत श्रृंखला तक संभव हो, इसका अधिक से अधिक संभव पहुंच हो। यह कार्रवाई करने की क्षमता के लिए मूलभूत है।" वहीँ माइकल हेइम्बिंडर, जो कि हैबिटैटमैप के कार्यकारी निदेशक हैं, कहते हैं, “हैबिटाट्यूट प्रौद्योगिकियों को सुलभ बनाता है ताकि असुरक्षित पर्यावरणीय बोझ का सामना करने वाले समुदायों को इक्विटी और जीवन की बेहतर गुणवत्ता की हिमायत कर सकें। हम ओपनऐक्यू (OpenAQ) के कम लागत वाले सेंसर पायलट के माध्यम से उपलब्ध कराए गए ओपन-सोर्स एयरकास्टिंग (AirCasting) प्लेटफ़ॉर्म में योगदान करने के लिए उत्साहित हैं।" अपनी बात रखते हुए अल्बर्ट प्रेस्टो, कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय में एसोसिएट रिसर्च प्रोफेसर, ने कहा, “सेंसर वायु प्रदूषण डाटा को पड़ोस के स्तर पर लाते हैं, लेकिन लोगों को विश्वसनीय उपकरणों का उपयोग करके विश्वसनीय स्रोतों से डाटा तक पहुंचने में सक्षम होने की आवश्यकता होती है। ओपनऐक्यू (OpenAQ) एक स्रोत है जो हमें इस मूल्यवान डाटा को और प्रसारित करने की अनुमति देगा।” मैट व्हिटनी, पोर्टफोलियो मैनेजर, क्लीन एयर फंड, कहते हैं, “हम स्वच्छ हवा के लिए लड़ने के लिए नए समाधानों को सक्षम करने में ओपनऐक्यू (OpenAQ) के कम लागत वाले सेंसर पायलट के लॉन्च को एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में देखते हैं। स्वच्छ वायु कोष का मानना है कि वायु प्रदूषण से निपटने के लिए वायु गुणवत्ता डाटा, नई और उभरती हुई तकनीकों को अपनाने और रचनात्मक बहु-हितधारक और बहु-क्षेत्रीय भागीदारी के लिए खुले और पारदर्शी उपयोग की आवश्यकता है। हमें इन महत्वपूर्ण लक्ष्यों को प्राप्त करने में ओपनऐक्यू (OpenAQ) के शानदार काम का समर्थन करने पर गर्व है।” Sources:

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव

चित्र

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश