किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर सुरक्षा चाक चौबन्द,राहुल प्रियंका ने सरकार पर खड़े किये सवाल

दिल्ली बार्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्थलों को छावनी में बदल दिया गया है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों की आवाजाही को और सीमित करने के लिए पुलिसकर्मियों की देखरेख में मजदूरों को सिंघू बॉर्डर पर मुख्य राजमार्ग के पास सीमेंट के दो बैरियर के बीच लोहे की सरिया लगाते हुए देखा गया। दिल्ली.हरियाणा सीमा पर राजमार्ग के एक अन्य हिस्से को जाम कर दिया गया है और वहां सीमेंट की अस्थायी दीवार खड़ी कर दी गई है। दिल्ली.उत्तरप्रदेश की सीमा पर गाजीपुर में वाहनों की आवाजाही रोकने के लिए कई स्तरीय बैरीकेड लगाए गए हैं। लोगों को पैदल चलने से रोकने के लिए कंटीले तार भी लगाए गए हैं। अब इसी को लेकर राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उसे दीवार की बजाय पुल बनवाना चाहिए। उन्होंने किसानों के आंदोलन स्थलों के निकट अवरोधक बनाए जाने से जुड़ी तस्वीरें साझा करते हुए ट्वीट किया, भारत सरकार पुल बनाइए दीवार नहीं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इसी विषय को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया, प्रधानमंत्री जी, अपने किसानों से ही युद्ध। दूसरी ओर किसान नेता राकेश टिकैत ने भी कहा कि जब वह पहले दिल्ली जा रहे थे तब भी रास्तों में कीले लगाए गए थे, अब जब नहीं जा रहे तब भी यह क्यों लगाए जा रहे हैं इससे जनता को परेशानी होगी। उन्होंने दावा किया कि इससे जनता को पता चलेगा कि उनके रास्तों में कौन कील लगा रहा है। यह रोटी को संदूक में बंद करने की साजिश है। गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बाद से ही पुलिस ने प्रदर्शनस्थल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए हैं। अब किसानों ने एक बार फिर से 6 फरवरी को चक्का जाम करने का ऐलान किया है।