सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

अखिलेश यादव-राजभर की जोड़ी का ऐलान,बंगाल में खेला होबे के बाद अब यूपी में खदेड़ा होबे

      सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने अपनी पार्टी के 19वें स्थापना दिवस के अवसर पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपने मंच पर बुलाकर आगामी विधानसभा चुनाव में छोटे बड़े दलों के गठबंधन को मंच मुहैया कराने की कोशिश की है। ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि वह भावी सीएम को आपने सामने लेकर आए हैं।  उन्होंने कहा कि वह समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। अखिलेश यादव के साथ रैली में ओपी राजभर ने कहा कि बंगाल में 'खेला होबे' हुआ था तो यूपी में 'खदेड़ा होबे'। राजभर ने कहा कि 2022 में अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनेंगे। सरकार बनी तो घरेलू बिजली का बिल 5 साल तक माफ किया जाएगा। अखिलेश यादव ने कहा कि सपना दिखाया की चप्पल पहनने वाला हवाई जहाज में चलेगा, आज महंगाई के कारण चप्पल पहनने वाले व्यक्ति की मोटरसाइकिल भी चल नहीं पा रही है।  आज पेट्रोल की कीमत क्या है? क्या हालत कर दी जनता की। अखिलेश यादव जी ने कहा जब कोरोना जैसी महामारी आई तब सरकार ने बेसहारा छोड़ दिया सरकार ने मदद नहीं की। इससे पहले ओपी राजभर ने कहा कि यूपी के लोग बीजेपी क

किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर सुरक्षा चाक चौबन्द,राहुल प्रियंका ने सरकार पर खड़े किये सवाल

दिल्ली बार्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्थलों को छावनी में बदल दिया गया है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों की आवाजाही को और सीमित करने के लिए पुलिसकर्मियों की देखरेख में मजदूरों को सिंघू बॉर्डर पर मुख्य राजमार्ग के पास सीमेंट के दो बैरियर के बीच लोहे की सरिया लगाते हुए देखा गया। दिल्ली.हरियाणा सीमा पर राजमार्ग के एक अन्य हिस्से को जाम कर दिया गया है और वहां सीमेंट की अस्थायी दीवार खड़ी कर दी गई है। दिल्ली.उत्तरप्रदेश की सीमा पर गाजीपुर में वाहनों की आवाजाही रोकने के लिए कई स्तरीय बैरीकेड लगाए गए हैं। लोगों को पैदल चलने से रोकने के लिए कंटीले तार भी लगाए गए हैं। अब इसी को लेकर राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उसे दीवार की बजाय पुल बनवाना चाहिए। उन्होंने किसानों के आंदोलन स्थलों के निकट अवरोधक बनाए जाने से जुड़ी तस्वीरें साझा करते हुए ट्वीट किया, भारत सरकार पुल बनाइए दीवार नहीं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इसी विषय को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया, प्रधानमंत्री जी, अपने किसानों से ही युद्ध। दूसरी ओर किसान नेता राकेश टिकैत ने भी कहा कि जब वह पहले दिल्ली जा रहे थे तब भी रास्तों में कीले लगाए गए थे, अब जब नहीं जा रहे तब भी यह क्यों लगाए जा रहे हैं इससे जनता को परेशानी होगी। उन्होंने दावा किया कि इससे जनता को पता चलेगा कि उनके रास्तों में कौन कील लगा रहा है। यह रोटी को संदूक में बंद करने की साजिश है। गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बाद से ही पुलिस ने प्रदर्शनस्थल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए हैं। अब किसानों ने एक बार फिर से 6 फरवरी को चक्का जाम करने का ऐलान किया है।

टिप्पणियाँ

Popular Post