सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरक की घर वापसी, बहू अनुकृति ने भी थामा कांग्रेस का हाथ

देहरादून: पांच दिनों तक मचे सियासी घमासान के बाद आखिरकार पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने आज दिल्‍ली में कांग्रेस का दामन थाम लिया।  इस दौरान पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश का विकास मेरा लक्ष्‍य है। उन्होंने कहा कि मैं बिना शर्त कांग्रेस परिवार में शामिल हुआ हूं।हरक ने कहा मैंने 20 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया है। मैं सोनिया गांधी का एहसान किसी भी कीमत पर नहीं भूलूंगा । वहीं देर आयद दुरूस्त आये की कहावत चरितार्थ करते हुये कांग्रेस में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की वापसी पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की आपत्ति के बाद पेच फंसा हुआ था । हालांकि सरकार तोडने में हरक की भूमिका जिसमे उन्होंने वर्ष 2016 में बगावत कर उनकी सरकार गिराई भी हरीश रावत बहुत नाराज थे जिसको लेकर हरीश रावत के तीखे तेवरों में अभी कमी नहीं आई है। वह हरक सिंह रावत को लोकतंत्र का गुनहगार बताते हुए पहले माफी मांगने पर जोर देते रहे। लेकिन हरीश रावत कह चुके थे कि हरक की

देहरादून : कारगी में बनेगा नगर निगम का पहला एमआरएफ सेंटर

 


 देहरादून /   नगर निगम सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट के बाद अब अपना पहला एमआरएफ (मैटेरियल रिकवरी फैसिलिटी) सेंटर बनाने की तैयारी कर रहा। कारगी में छह माह में बनने वाले इस सेंटर की जिम्मेदारी मैसर्स सनलाइट को दी गई है, जो अभी 15 वार्ड में कूड़ा उठान का कार्य कर रही। सेंटर बनने के बाद उक्त 15 वार्डों का कूड़ा शीशमबाड़ा प्लांट भेजने के बजाए यहीं पर निस्तारित होगा और नगर निगम को कूड़ा निस्तारण पर हर महीने आ रहे खर्च में बचत होगी। एमआरएफ सेंटर में कंपोस्ट खाद बनाई जाएगी। इसके साथ ही कूड़े के अलावा पालीथिन, कागज और लोहा आदि का पृथकीकरण कर उसे अलग से री-साइकिल किया जाएगा।शहर में शत फीसद कूड़ा निस्तारण करना नगर निगम की बड़ी समस्या है। अभी तक नगर निगम का सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट शीशमबाड़ा सेलाकुई में काम कर रहा। यहां 98 वार्डों का कूड़ा निस्तारण किया जा रहा, जबकि बाकी दो वार्डों में कलस्टर के तहत संस्थाओं को कूड़ा एकत्र कर निस्तारण की जिम्मेदारी मिली हुई है। शहर में तीन कंपनी कूड़ा उठान कर रहीं।चेन्नई एमएसडब्लू के जिम्मे 69 वार्ड हैं, जबकि मैसर्स सनलाइट के पास 15 और मैसर्स भार्गव के पास 14 वार्ड की जिम्मेदारी है। मैसर्स सनलाइट एवं मैसर्स भार्गव के साथ निगम ने अक्टूबर में अनुबंध किया है। इसके अंतर्गत अगले छह माह के भीतर इन दोनों कंपनियों को अपने एमआरएफ सेंटर बनाने हैं। इसके लिए नगर निगम इन्हें जमीन उपलब्ध कराएगा। मैसर्स सनलाइट को निगम ने कारगी में जमीन की उपलब्धता करा दी है। इस जमीन में पहले काफी कूड़ा एकत्रित था, जिसे सनलाइट के जरिये उठवाकर शीशमबाड़ा प्लांट में भेजा गया

निगम को कूड़ा कारगी से शीशमबाड़ा ले जाना काफी महंगा पड़ रहा। ऐसे में वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. आरके सिंह ने मैसर्स सनलाइट को अप्रैल तक एमआरएफ सेंटर बनाने को कहा है। डा. सिंह ने बताया कि प्लाट पूरी तरह साफ हो गया है व वहां पड़ने वाले कूड़े को तत्काल शीशमबाड़ा में भेजा जा रहा। अब एमआरएफ सेंटर बनाने को सिर्फ मशीनों के आने का इंतजार किया जा रहा। इसमें कंपोस्ट खाद बनाने के साथ ही अन्य मशीनें शामिल हैं। मैसर्स सनलाइट के एमडी सूर्य प्रकाश फरासी ने बताया कि मशीनों के आर्डर दे दिए गए हैं। सेंटर बनाने में करीब डेढ़ करोड़ की लागत आएगी, जो कंपनी खुद वहन करेगी।

टिप्पणियाँ

Popular Post