सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

उत्तर प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र कल से, पहले दिन होगी शोक सभा

  



 लखनऊ /  उत्तर प्रदेश विधानमंडल का तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र बुधवार से होगा। इसमें सरकार के चालू वित्तीय वर्ष के दूसरे अनुपूरक बजट और लेखानुदान पर भी सदन की मुहर लगेगी। सरकार इस सत्र में तीन विधेयक भी पारित कराएगी। इसको लेकर विधानसभा अध्यक्ष ने मंगलवार को लखनऊ में विधान भवन में सर्वदलीय बैठक भी बुलाई।विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के दौरान राज्य सरकार चालू वित्तीय वर्ष के लिए दूसरा अनुपूरक बजट, अगले वित्तीय वर्ष का अंतरिम बजट और शुरुआती चार महीनों के जरूरी खर्चों से निपटने के लिए लेखानुदान पेश करेगी। इसके अलावा सरकार तीन अध्यादेशों के प्रतिस्थानी विधेयक भी विधानमंडल सत्र में पेश करेगी। शीतकालीन सत्र एक तरह से सत्रहवीं विधानसभा का अंतिम सत्र माना जा रहा है। 15 दिसंबर से शुरू होने वाले तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र का एजेंडा विधायकों को जारी कर दिया गया हैै। बीती 18 अक्टूबर को विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष व आजमगढ़ की दीदारगंज सीट से बसपा के विधायक रहे सुखदेव राजभर के निधन की कारण शीतकालीन सत्र के पहले दिन शोक प्रस्ताव के बाद विधान सभा की कार्यवाही स्थगित हो जाएगी। 16 दिसंबर को सुबह 11 बजे सरकार सदन में चालू वित्तीय वर्ष के लिए दूसरा अनुपूरक बजट पेश करेगी। वित्तीय वर्ष 2022-23 का अंतरिम बजट और पहले चार महीनों के लिए लेखानुदान भी प्रस्तुत करेगी। जिन तीन तीन अध्यादेशों के प्रतिस्थानी विधेयक सदन में पेश किये जाएंगे उनमें उत्तर प्रदेश माल और सेवा कर संशोधन अध्यादेश 2021, उत्तर प्रदेश मोटर यान कराधान (संशोधन) अध्यादेश 2021 और उत्तर प्रदेश अधिवक्ता कल्याण निधि (संशोधन) अध्यादेश 2021 शामिल हैं। 17 दिसंबर को दूसरे अनुपूरक बजट, लेखानुदान व तीनों प्रतिस्थानी विधेयकों को पारित किया जाएगा।विधान भवन में मंगलवार को विधानसभा की सर्वदलीय बैठक सम्पन्न हुई। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित तथा उपाध्यक्ष नितिन अग्रवाल की मौजूदगी में कार्यमंत्रणा समिति की बैठक सम्पन्न हो गई। हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि कल से विधानसभा का सत्र है। इस बार का सत्र तीन दिन का बुलाया गया है। इसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के निधन पर शोक प्रस्ताव रखा जाएगा। सदन में दूसरे दिन अनुपूरक बजट पेश किया जाएगा। इस दौरान कार्य मंत्रणा समिति और सुरक्षा संबंधी बैठक भी सम्पन्न हो गई।  

Sources:JNN

टिप्पणियाँ

Popular Post