सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

सीएम सुरक्षा में तैनात सिपाही ने खुद को गोली से उड़ाया

 


 मुख्यमंत्री योगीआदित्यानाथ की सुरक्षा में तैनात सिपाही तेज कुमार सिंह (25) ने शनिवार सुबह सर्विस पिस्टल से खुद को गोली मार ली। फायरिंग की आवाज सुन कर भतीजा कमरे में पहुंचा। जहां उसे चाचा खून से लथपथ पड़े मिले। आनन फानन में तेज कुमार सिंह को पुलिस की मदद से अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने मौत होने की पुष्टि कर दी। तेज कुमार सिंह के खुदकुशी करने की वजह पुलिस तलाश रही है।मूलत: गोण्डा निवासी तेज कुमार सिंह चार साल से सीएम सुरक्षा में तैनात हैं। शुक्रवार को उनकी नाइट शिफ्ट थी। सुबह सात बजे करीब वह ड्यूटी खत्म कर बादशाह नगर स्थित आवास पर पहुंचे थे। कमरे में पहुंचने के कुछ देर बाद ही तेज कुमार ने सर्विस पिस्टल से खुद को गोली मार ली। फायरिंग की आवाज सुनकर कमरे में पहुंचा था। जिसने पुलिस को सूचना दी। एसीपी महानगर जया शांडिल्य के मुताबिक तेज कुमार सिंह के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। उनकी सर्विस पिस्टल मौके से मिली है। जिसे फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा। एसीपी के मुताबिक परिवार वालों से बात कर खुदकुशी का कारण तलाशने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं, परिवार के मुताबिक तेज कुमार सिंह ने दरोगा भर्ती के लिए तैयारी कर रहा था। शनिवार को गोरखपुर में परीक्षा में उसे शामिल होना था। लेकिन छुट्टी नहीं मिली थी। इस बात को लेकर वह तनाव में था। हालांकि पुलिस अधिकारी इस बारे में कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post