सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरक की घर वापसी, बहू अनुकृति ने भी थामा कांग्रेस का हाथ

देहरादून: पांच दिनों तक मचे सियासी घमासान के बाद आखिरकार पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने आज दिल्‍ली में कांग्रेस का दामन थाम लिया।  इस दौरान पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश का विकास मेरा लक्ष्‍य है। उन्होंने कहा कि मैं बिना शर्त कांग्रेस परिवार में शामिल हुआ हूं।हरक ने कहा मैंने 20 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया है। मैं सोनिया गांधी का एहसान किसी भी कीमत पर नहीं भूलूंगा । वहीं देर आयद दुरूस्त आये की कहावत चरितार्थ करते हुये कांग्रेस में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की वापसी पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की आपत्ति के बाद पेच फंसा हुआ था । हालांकि सरकार तोडने में हरक की भूमिका जिसमे उन्होंने वर्ष 2016 में बगावत कर उनकी सरकार गिराई भी हरीश रावत बहुत नाराज थे जिसको लेकर हरीश रावत के तीखे तेवरों में अभी कमी नहीं आई है। वह हरक सिंह रावत को लोकतंत्र का गुनहगार बताते हुए पहले माफी मांगने पर जोर देते रहे। लेकिन हरीश रावत कह चुके थे कि हरक की

वीआइपी मूवमेंट ने तहस-नहस करी शहर की यातायात व्यवस्था



रुड़की  / आगामी विधान सभा चुनाव 2022 से पहले वीआइपी मूवमेंट बढ़ने से शहर से लेकर देहात तक ट्रैफिक निजाम तीस-नहस हो गया है। आपको बता दें कि वीआइपी मूवमेंट को लेकर पुलिस के पास ट्रैफिक निजाम के लिए कोई भी प्लान नहीं है, जिसकी वजह से आम जनता को परेशानी हो रही है। इसके अलावा शहर से लेकर देहात तक पुलिस की कमी भी यातायात व्यवस्था में बाधक बन रही है।उत्तराखण्ड राज्य में कुछ समय बाद ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। कुछ दिन बाद आचार संहिता भी लागू हो जाएगी। लेकिन इससे पहले ही रैलियों और जनसभाओं का ताबड़तोड़ दौर शुरू हो चुका है। ऐसे में वीआइपी मूवमेंट भी बढ़ा है। सत्ताधारी पार्टी के कई बड़े नेताओं से लेकर विपक्षी दलों के कई नेता शहर से लेकर देहात तक रैली और जनसभाएं कर रहे हैं। ऐसे में शहर से लेकर देहात तक यातायात व्यवस्था चरमरा गई है जिसके चलते हर दिन शहर में जाम लग रहा है। देहात में भी जाम से लोग परेशान हो रहे हैं। वीआइपी मूवमेंट के दौरान पुलिस को जाम खुलवाने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। कई बार तो ऐसा होता है कि देहात क्षेत्र में वीआइपी मूवमेंट के दौरान पुलिसकर्मी ड्यूटी में रहते हैं और शहर में जाम लग जाता है। ऐसे में बिना पुलिसकर्मियों के शहर का ट्रैफिक चलता है जिससे शहर के लोग परेशान हैं। पुलिसकर्मियों की कमी भी सबसे बड़ी जाम की वजह बन रही है। दूसरी बड़ी वजह यह है कि पुलिस के पास कोई यातायात प्लान नहीं है जिससे कि शहर और आसपास के क्षेत्र को वीआइपी मूवमेंट के दौरान जाम से बचाया जा सके। हालांकि शहर से देहात तक पुलिसकर्मियों की कमी को देखते हुए थानों को पीएसी भी दी गई है लेकिन पुलिस इसका फायदा नहीं उठा पा रही है।

टिप्पणियाँ

Popular Post