सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

इंटरनेट मीडिया से हो रहे चुनाव प्रचार में ग्रामीण भारत का एक बड़ा वर्ग अछूता

जैसा कि आपको मालूम है कि कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखकर चुनाव आयोग ने वर्चुअल रैली और प्रचार प्रसार के निर्देश जारी किये थे। जैसा की आपको मालूम है कि इस वक्त देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैंऔर कोरोना की वजह से न तो रैलियां हो रही हैं और न ही रोड शो के जरिये राजनीतिक दल जनता के बीच अपना शक्ति प्रदर्शन ही कर पा रहे हैं।  लिहाजा सारा चुनाव प्रचार डिजिटल प्रारूप में ही सिमट कर रह गया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की पाबंदी के कारण राजनीतिक दल और नेता इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों के जरिये जनता के बीच अपनी पैठ बनाने में लगे हैं। इन्हीं मंचों पर अपनी प्रचार सामग्री को परोसकर पार्टियां चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुटी हैं। मतदाताओं को लुभाने के लिए इस बार राजनीतिक पार्टियां लोकगीतों के रूप में अपने अपने प्रचार गीत बनवाकर  इंटरनेट मीडिया के मंचों पर उन्हें साझा करके जनता के दिलोदिमाग पर छा जाने को बेताब हैं। इस संग्राम में आगे निकल जाने की स्पर्धा लगभग सभी दलों में दिखाई दे रही है। ऐसे में यहां यह सवाल तैर रहा है कि लोकतंत्र के इस चुनावी त्योहार में क्या यह

भाजपा नेता लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ने से किया इनकार

  


मेरठ  /  भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी अगले साल होने वाला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे और उन्होंने खुद इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत में चुनाव न लड़ने के अपने फैसले की जानकारी देते हुए कहा, ‘‘मैंने पार्टी नेतृत्व को चुनाव नहीं लड़ने के अपने फैसले के बारे में अवगत करा दिया है।’’बहरहाल, उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मैं पार्टी का सिपाही हूं इसलिए अगर पार्टी नेतृत्व मुझे चुनाव लड़ने के लिए कहेगा तो मैं एक सच्चे सिपाही के मानिन्द चुनाव लड़ने से इनकार नहीं करुंगा।’’ गौरतलब है कि 2017 का विधानसभा चुनाव हारने के बाद से वाजपेयी लगातार हाशिये पर है।हालांकि, बीच-बीच में कभी उन्हें राज्यसभा भेजे जाने की चर्चा चली, तो कभी विधान परिषद सदस्य बनाने की चर्चा चली। उन्हें राज्यपाल बनाए जाने के कयास भी लगाए गए। वाजपेयी 1989 में मेरठ शहर सीट से पहली बार विधायक चुने गए। वह इस सीट से चार बार विधायक रह चुके हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post