सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरक की घर वापसी, बहू अनुकृति ने भी थामा कांग्रेस का हाथ

देहरादून: पांच दिनों तक मचे सियासी घमासान के बाद आखिरकार पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने आज दिल्‍ली में कांग्रेस का दामन थाम लिया।  इस दौरान पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश का विकास मेरा लक्ष्‍य है। उन्होंने कहा कि मैं बिना शर्त कांग्रेस परिवार में शामिल हुआ हूं।हरक ने कहा मैंने 20 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया है। मैं सोनिया गांधी का एहसान किसी भी कीमत पर नहीं भूलूंगा । वहीं देर आयद दुरूस्त आये की कहावत चरितार्थ करते हुये कांग्रेस में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की वापसी पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की आपत्ति के बाद पेच फंसा हुआ था । हालांकि सरकार तोडने में हरक की भूमिका जिसमे उन्होंने वर्ष 2016 में बगावत कर उनकी सरकार गिराई भी हरीश रावत बहुत नाराज थे जिसको लेकर हरीश रावत के तीखे तेवरों में अभी कमी नहीं आई है। वह हरक सिंह रावत को लोकतंत्र का गुनहगार बताते हुए पहले माफी मांगने पर जोर देते रहे। लेकिन हरीश रावत कह चुके थे कि हरक की

 राहुल की रैली को भव्य बनाने के लिए कांग्रेस ने झोंकी ताकत

 


 16 दिसंबर को देहरादून के परेड ग्राउंड में भारत-पाकिस्तान युद्ध में भारत की एतिहासिक विजय के उपलक्ष्य में जनसभा एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। वहीं आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उत्तराखंड के पांचवें दौरे पर काशीपुर में बड़ा एलान कर सकते हैं।कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की 16 दिसंबर को देहरादून के परेड ग्राउंड में आयोजित होने वाली रैली को लेकर पार्टी ने जोरशोर से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसको लेकर जहां पार्टी के वरिष्ठ नेता बैठकें कर रणनीति बनाने के काम में जुटे हैं, वहीं प्रदेशभर में विधानसभा वार जनसंपर्क अभियान शुरू किया गया है। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उत्तराखंड के पांचवें दौरे पर काशीपुर में बड़ा एलान कर सकते हैं।16 दिसंबर को देहरादून के परेड ग्राउंड में भारत-पाकिस्तान युद्ध में भारत की एतिहासिक विजय के उपलक्ष्य में जनसभा एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। रैली की तैयारियों को लेकर पार्टी के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव सहित अध्यक्ष गणेश गोदियाल, पूर्व सीएम हरीश रावत और तमाम वरिष्ठ नेता पहले दौर में जिलावार प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक ले चुके हैं।रैली में प्रदेशभर से अधिक से अधिक लोगों की भीड़ जुटाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसी क्रम में पार्टी जहां विधानसभा वार जनसंपर्क अभियान चला रही है, वहीं जिलावार पदयात्राओं और मशाल जलूस भी निकाले जा रहे हैं। पार्टी राहुल गांधी की रैली के माध्यम से अधिक से अधिक भीड़ जुटाकर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन का संदेश देना चाहती है। इसलिए उसके नेताओं के लिए इस रैली को सफल बनाना बड़ी चुनौती के तौर पर देखा जा रहा है। उत्तराखंड सत्ता संग्राम 2022: शैक्षिक योग्यता की नहीं कोई शर्त, प्रधानी के लिए 10वीं पास जरूरी, विधायक अंगूठाछाप भी चलेगाराहुल गांधी की 16 दिसंबर को परेड ग्राउंड में होने वाली रैली के लिए पार्टी की ओर से समन्वय समिति का गठन किया गया है। प्रदेश महामंत्री संगठन मथुरादत्त जोशी ने बताया कि यह समिति पूर्व सैनिकों, शहीद सैनिक परिवारों व पार्टी नेताओं के बीच समन्वय बनाने का काम करेगी। समिति में प्रयाग दत्त भट्ट, पीके अग्रवाल, नवीन जोशी, खजान पांडेय, अनुपमा रावत, शांति प्रसाद भट्ट, पुरुषोत्तम शर्मा, जयेंद्र रमोला, ओमप्रकाश सती और संग्राम सिंह पुंडीर को शामिल किया गया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने रविवार को परेड ग्राउंड पहुंचकर रैली स्थल का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं को व्यवस्थाओं को लेकर तमाम निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि वह रैली की सफलता के लिए सभी कार्यों पर खुद नजर बनाए हुए हैं। इस दौरान उनके साथ कार्यकारी अध्यक्ष प्रकाश जोशी, राजेश चमोली, अमरजीत सिंह, नरेश नौटियाल आदि मौजूद थे। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक वर्ष 1971 में हुई थी। तब देश की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के मजबूत नेतृत्व में भारतीय सेना ने अपने अदम्य साहस का लोहा मनवाते हुए पाकिस्तान की सेना पर ऐतिहासिक विजय हासिल की थी और बांग्लादेश का उदय हुआ। 16 दिसंबर को इस ऐतिहासिक विजय की 50वीं वर्षगांठ पर उनके नेता राहुल गांधी वीर सैनिकों और उनके परिजनों का सम्मान करेंगे। 14 दिसंबर को अरविंद केजरीवाल काशीपुर में जनसभा को संबोधित करेंगे। पार्टी ने उनके दौरे को लेकर तैयारियां पूरी कर ली है। 2022 के चुनाव को लेकर आप नेता केजरीवाल 14 दिसंबर को उत्तराखंड के पांचवें दौरे पर आएंगे। इससे पहले केजरीवाल जब भी उत्तराखंड आए हैं, उन्होंने नई घोषणा कर सियासी माहौल को गरमाया है।देहरादून, हल्द्वानी और हरिद्वार दौरे पर आप की सरकार बनने पर प्रत्येक परिवार को 300 यूनिट मुफ्त बिजली, बेरोजगारों को रोजगार, मुफ्त तीर्थ यात्रा, उत्तराखंड को आध्यात्मिक राजधानी बनाने की गारंटी दे चुके हैं। काशीपुर में केजरीवाल फिर से बड़ा एलान कर सकते हैं।पार्टी सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल स्वास्थ्य, किसानों और महिलाओं के मुद्दे पर एलान कर सकते हैं। पिछले माह केजरीवाल ने सत्ता में आने पर पंजाब में प्रत्येक महिला को प्रति माह एक हजार देने की घोषणा की थी। आप मीडिया सहप्रभारी उमा सिसोदिया ने बताया कि केजरीवाल 14 दिसंबर को उत्तराखंड के काशीपुर दौरे पर आएंगे। इसके लि पार्टी ने तैयारियां पूरी कर ली है। प्रदेश की जनता को उनके दौरे से बड़ी उम्मीदें हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भरेंगे के साथ ही प्रदेश के लोगों को बड़ी गारंटी दे सकते हैं।




टिप्पणियाँ

Popular Post