सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

महाराष्ट्र बड़ा ऐक्शन : डिप्टी CM अजीत पवार की 1,000 करोड़ रुपये की संपत्ति आयकर विभाग ने की जब्त

 


 

आयकर विभाग ने महाराष्ट्र में बड़ी कार्रवाई की है। राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की 1000 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। मुंबई के नरीमन पॉइंट में निर्मल टॉवर सहित पांच संपत्तियों को आईटी विभाग ने कुर्क किया है।  विभाग ने बीते महीने पवार की बहनों के घरों और कंपनियों पर छापे मारे थे।इससे पहले आयकर विभाग को मुंबई के कुछ रियल स्टेट कारोबारियों और महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के परिवार के कुछ सदस्यों के पास 184 करोड़ रुपए की ऐसी संपत्ति का पता चला था जिसका कोई हिसाब-किताब मौजूद नहीं है।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर टैक्सेज (सीबीडीटी) ने एक बयान में कहा था कि बीते 7 अक्टूबर को मुंबई, पुणे, बारामती, गोवा और जयपुर में करीब 70 ठिकानों पर छापेमारी की गई थी। बताया जा रहा है कि छानबीन के दौरान बेनामी लेनदेन का भी पता चला है जिसे सबूत के तौर पर रखा गया है। छापेमारी में बरामद कुछ अहम दस्तावेजों से दो ग्रुपों के पास करीब 184 करोड़ रुपए का पता चला है, जिसका कोई हिसाब मौजूद नहीं है। हालांकि, इस विभाग की तरफ से दोनों में से किसी भी ग्रुप का नाम नहीं बताया गया है। छापेमारी के दिन महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने मीडिया से कहा था कि आईटी विभाग ने उनकी तीन बहनों के ठिकानों पर भी छापेमारी की है। इनमें से एक कोल्हापुर जिले और दो अन्य महाराष्ट्र के पुणे जिले में रहती हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post