सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

दिल्ली विधानसभा समिति के समक्ष फेसबुक को पेश होने के लिए 14 दिन का और समय मिला

  


नयी दिल्ली / दिल्ली विधानसभा की शांति एवं सौहार्द्र समिति ने फेसबुक इंडिया को 14 दिन का समय और दिया है तथा उससे फरवरी 2020 में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों पर एक वरिष्ठ प्रतिनिध को 18 नवंबर को उसके समक्ष पेश करने के लिए कहा है। एक आधिकारिक बयान में मंगलवार को यह जानकारी दी गयी। बयान के मुताबिक, फेसबुक ने विधायक राघव चड्ढा के नेतृत्व वाली समिति से पेशी के लिए संभावित सबसे अच्छे अधिकारियों की पहचान करने के वास्ते कुछ और समय मांगा था। समिति ने यह अनुरोध स्वीकार कर लिया है। इससे पहले समिति ने उत्तरपूर्वी दिल्ली में हुए दंगों पर फेसबुक इंडिया को उसके समक्ष एक वरिष्ठ प्रतिनिधि को दो नवंबर को पेश करने के लिए कहा था।बयान में कहा गया है कि 27 अक्टूबर के सम्मन के जवाब में फेसबुक इंडिया ने समिति के समक्ष पेश होने के लिए 14 दिन का और समय देने का अनुरोध किया था ताकि वे ऐसे वरिष्ठ प्रतिनिधि को भेज सकें जिनके पास आवश्यक जानकारी हो और ‘‘जो समिति को आवश्यक आंकड़ें उपलब्ध कराने के लिए सबसे उपयुक्त हो।’’ बयान में कहा गया है, ‘‘अनुरोध और उसमें बतायी गयी वजहों पर विचार करते हुए समिति के अध्यक्ष और विधायक राघव चड्ढा ने फेसबुक इंडिया को उचित वरिष्ठ प्रतिनिधि को भेजने के लिए और समय देने का फैसला किया है।इसके अनुसार समिति की कार्यवाही 18 नवंबर को दोपहर साढ़े 12 बजे पुन: निर्धारित की गयी है।’’ उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 23 फरवरी और 26 फरवरी 2020 के बीच नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थकों और उसके विरोधियों के बीच हिंसा में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गयी थी और सैकड़ों घायल हो गए थे।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव