सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

अब महात्मा गांधी को लेकर पद्मश्री कंगना रनौत का फिर विवादित बयान, कांग्रेस रोष

  



भोपाल /   बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपने बयानों की वजह से हमेशा सुर्खियों में रहती है। कंगना रनौत ने अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर विवादित टिप्पणी की है। जिसके खिलाफ कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन किया। भोपाल के 6 नंबर बस स्टॉप स्थित चौराहे पर कांग्रेस के पूर्व पार्षद गुड्डू चौहान के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुतला दहन किया।कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी पर एक आर्टिकल साझा किया था। इसकी हेडलाइन में लिखा है कि या तो आप गांधी के फैन हो सकते हैं या फिर नेताजी के समर्थक…आप दोनों के समर्थक नहीं हो सकते। इसका फैसला खुद करें। 

उन्होंने आगे लिखा, ”दूसरा गाल देने से भीख मिलती है, आजादी नहीं।वहीं इससे पहले कंगना ने कहा था कि स्वतंत्रता सेनानियों को उन लोगों ने अंग्रेजों के हवाले कर दिया जिनमें लड़ने की हिम्मत नहीं थी लेकिन वे सत्ता के भूखे थे। उन्होंने आगे कहा था कि ये वही हैं जिन्होंने हमें सिखाया है कि अगर कोई एक थप्पड़ मारे तो एक और थप्पड़ के लिए दूसरा गाल दे दो और इस तरह आपको आजादी मिलेगी। इस तरह से किसी को आज़ादी नहीं मिलती ऐसे भीख ही मिल सकती है। अपने नायकों को बुद्धिमानी से चुने।कंगना रनौत ने कहा कि गांधी ने कभी भी भगत सिंह या सुभाष चंद्र बोस का समर्थन नहीं किया। सबूत है कि गांधी जी चाहते थे की भगत सिंह को फांसी हो। तो आपको यह चुनने की ज़रूरत है कि आप किसका समर्थन करते हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post