सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

लखनऊ : पेड़ से बांधकर बच्चे को पीटा, चार को पुलिस ने लिया हिरासत में

 

 लखनऊ /  दुबग्गा जागर्स पार्क के पास शुक्रवार सुबह 13 वर्षीय बच्चे को गुमटी में दुकान चलाने वाली शांति देवी और उसके आस-पड़ोस के लोगों ने पेड़ से बांधकर पीटा। इतना ही नहीं, इस अमानवीय कृत्य का लोगों ने वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल कर दिया। बच्चे की सुलभ बदमाशी पर लोगों ने क्रूरता की हद पार कर दी।

 हालांकि, जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने शांति समेत चार लोगों को हिरासत में ले लिया। शांती का आरोप है कि बच्चे ने 200 रुपये का चूरन वाला नकली नोट देकर 65 रुपये का बिस्कुट, चाकलेट और कुछ अन्य सामान खरीदा था। उधर, घटना के बाद से बच्चा लापता है, पुलिस उसकी तलाश कर रही है।शांति के मुताबिक उनके पति राम किशोर की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। सुबह जब वह घर का काम करती हैं तो वह दुकान पर बैठते हैं। 

शांति ने बताया कि इस बीच बीते तीन-चार दिनों से यह लड़का आ रहा था। कभी 50 तो कभी 100 रुपये का नकली नोट देकर पति से सामान ले जाता था। जब वह दुकान पर आतीं तो गुल्लक चेक करने पर उन्हें इसकी जानकारी होती। पूछताछ करने पर पति ठीक से बता नहीं पाते थे कि कौन यह नकली रुपये से सामान ले जाता है। पति को लड़के पर ही आशंका हुई।शांति ने बताया कि शुक्रवार सुबह इसकी पड़ताल के लिए वह गुमटी के पीछे खड़ी हो गईं। 

कुछ देर बाद लड़का आया उसने 200 रुपये का नोट दिया। सिगरेट, बिस्कुट और चाकलेट ली। 65 रुपये हुए पति बाकी के 135 रुपये वापस कर रहे थे। तभी उसे पकड़ लिया गया। नोट देखा तो वह नकली चूरन वाला था। बच्चे को डांटा गया तो आस पड़ोस के लोग आ गए। उन्होंने पकड़ा और पेड़ से बांध कर वीडियो बना लिया।

 वहीं कुछ लोगों को कहना है कि बच्चे को पहले पीटा था फिर वीडियो बनाया। कुछ देर बाद बच्चे को छोड़ दिया गया। बच्चे से उसके बारे में पूछा गया तो कहा कि उसके माता पिता नहीं है। पर उसने अपना नाम पर पता नहीं बताया था। फिर छोड़ दिया गया था। 



टिप्पणियाँ

Popular Post