बाबुल सुप्रियो का राजनीति से संन्यास

 


  आसनसोल से दूसरी बार जीतकर संसद पहुंचे बाबुल सुप्रियो ने अब राजनीति से संन्यास का ऐलान कर दिया है। मोदी सरकार-1 और 2 में अब तक वह मत्री थे। हाल में ही हुए कैबिनेट विस्तार में उन्हें मंत्रिपरिषद से बाहर कर दिया गया था। फिल्म संगीत में अपनी अलग पहचान बना चुके बाबुल सुप्रियो 2014 में आसनसोल से चुनाव जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे थे। 2014 से 2016 तक वह शहरी विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री थे जबकि 2016 से 2019 तक उन्हें भारी उद्योग में राज्य मंत्री बनाया गया था। 2019 से 2021 तक वह पर्यावरण मंत्रालय में एमओएस रहे।


চললাম..
Alvida…
সবার সব কথা শুনলাম - বাবা, (মা) স্ত্রী, কন্যা, দুএকজন প্রিয় বন্ধুবান্ধব.. সবটুকু শুনে বুঝেই অনুভব করেই বলি,
চললাম...
'বেশ কিছু সময়ে তো থাকলাম'.. কিছু মন রাখলাম কিছু ভাঙলাম.. কোথাও আপনাদের হয়তো আমার কাজে খুশি করলাম, কোথাও নিরাশ হতাশ করলাম | মূল্যায়ন আপনারাই নয় করবেন 😊 ...


 

बाबुल सुप्रियो हाल में ही संपन्न हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भी टॉलीगंज से अपनी किस्मत आजमाई थी। हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा। फेसबुक पर एक बड़े पोस्ट में उन्होंने लिखा कि मैं तो जा रहा हूँ..सब की बातें सुनी.. बाप, (माँ) पत्नी, बेटी, दो प्यारे दोस्त.. सब सुनकर कहता हूँ मैं किसी और पार्टी में नहीं जा रहा। मैं भी कहीं नहीं जा रहा हूँ मैं एक टीम का खिलाड़ी हूँ! हमेशा एक टीम का समर्थन किया है #MohunBagan - सिर्फ पार्टी की है BJP West Bengal!! That 's it!!