सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

लगा है आना जाना..... अब टिहरी से भाजपा विधायक धन सिंह नेगी को रास आया हाथ

देहरादून: इस बार का विधानसभा चुनाव लगता है कांग्रेस और भाजपा दोनो के लिए डू एण्ड डाई बाला बन गया है। कई दिनों से लगातार कांग्रेस से भाजपा और भजपा से कांग्रेस मे आने का दौर जारी है। खैर दल-बदल की राजनीति तो आजकल सियासत की पाठशाला का ट्रेण्ड बन गया है।  लेकिन एक बात तो गौर करने वाली है कि मौजूदा सरकार के मंत्री या विधायक पार्टी छोड़ते हैं तो जाहिर सी बात है कि एक्टिंग सरकार की वापसी दोबारा असंभव बन जाती है। आज ही कांग्रेस के दिग्गज किशोर उपाध्याय जहां भाजपा कुनबे में शामिल हो गये वहीं बड़ी खबर आ रही है कि अब टिहरी विद्यायक धन सिंह नेगी कांग्रेस में शामिल हो गये। उम्मीद की जा रही है कि वे टिहरी से कांग्रेस के प्रत्याशी हो सकते हैं। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 जैसे-जैसे करीब आ रहे हैं वैसे वैसे सियासी पारा उतार-चढ़ाव पर है। वैसे भी  उत्तराखंड का मौसम और सियासत का कुछ नहीं पता चलता कब क्या हो जाये कोई नहीं जानता। 

धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ाई गई, एटीएस व पुलिस ने शुरू की पड़ताल

 


  

लखनऊ /  आतंकी को छुड़ाने की मांग को लेकर अलीगंज नया हनुमान मंदिर और आरएसएस के कार्यालय में मिले धमकी भरे पत्र के बाद पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी है। मंदिरों के सामने पुलिस व एटीएस की टीम पड़ताल में जुट गई है। रजिस्टर्ड डाक से यह पत्र अलीगंज के नए हनुमान मंदिर व मनकामेश्वर मंदिर के पते पर आया है। मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरि ने बताया कि शुक्रवार को पत्र आया था जिसमे इसमें कहा गया कि जिन मुजाहिदों को गिरफ्तार किया गया है उन्हें 14 अगस्त तक रिहा कर दिया जाए। बरना 15 अगस्त को कहर बरपाया जाएगा।एसीपी अलीगंज अखिलेश कुमार ने बताया कि लखनऊ के सभी प्रमुख मंदिरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पत्र कहा से आया इसकी भी जांच की जा रही है। आरएसएस के कार्यालय की निगरानी भी बढ़ा दी गई है। मदेयगंज से पत्र आया है। वहां के डाक घर के कर्मचारियों से भी पत्र भेजने वाले की जानकारी ली जा रही है। मामले की जांच के लिए क्राइम ब्रांच की टीम को लगा दिया है। फिलहाल पुलिस अभी मामले में कुछ खुलकर नहीं बोल रही है। अलीगंज स्थित नए हनुमान मंदिर के प्रशासनिक अधिकारी राकेश दीक्षित ने बताया कि गुरुवार को रजिस्टर्ड डाक से पत्र आया है। पत्र में यह भी कहा गया है कि 10 लोगों की सूची तैयार है उसमें कुछ आरएसएस के बड़े पदाधिकारी भी हैं। शनिवार को पुलिस व एटीएस के साथ ही खुफिया विभाग के अधिकारी पड़ताल में जुट गए हैं। पुराने हनुमान मंदिर के साथ ही बुद्धेश्वर मंदिर, कोनेश्वर मंदिर, बड़ा व छोटा शिवाला के साथ ही कई बड़े मंदिरों के पास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मंदिर प्रशासन से पुलिस भी पूछताछ कर जानकारी ले रही है। पुलिस के अधिकारियों ने मंदिर प्रशासन से मामले की सभी नई जानकारी साझा करने की अपील की है।

टिप्पणियाँ

Popular Post