अब स्पीड पोस्ट से कराएं अस्थि विसर्जन, वेबकास्ट के माध्यम से देख भी सकेंगे

कोरोना महामारी कौ दौर में हो रही मौत के परिजनों के लिए डाक विभाग ने एक नई पहल शुरू की है। डाक विभाग और ओम दिव्य दर्शन (ओडीडी) की इस पहल से अब आप अपने परिजनों की अस्थी-विसर्जन स्पीड पोस्ट के जरिए वाराणसी, प्रयागराज, हरिद्वार और गया के पवित्र गंगा में भेज सकते हैं। यह सामाजिक-धार्मिक मंच श्राद्ध अनुष्ठानों से पूजा कराएगी।वाराणसी क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, “कई लोगों ने कोरोना महामारी के दौरान अपने प्रियजनों को खो दिया, लेकिन अंतिम संस्कार ठीक से नहीं कर सके। अब अस्थियों को डाकघरों से स्पीड पोस्ट के माध्यम से इन स्थानों पर भेजा जा सकता है”,। पवित्र गंगा में अस्थि विसर्जन की परंपरा है और लोग वाराणसी, प्रयागराज, हरिद्वार और गया में अस्थि विसर्जन और श्राद्ध कर्म कर मृत आत्माओं को शांति प्रदान करते हैं। कैसे करे स्पीड पोस्ट? कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए व्यक्ति को ओम दिव्य दर्शन (htpp://omdivysdarshan.org) के पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराना होगा। ओडीडी पोर्टल पर अस्थि विसर्जन या श्राद्ध समारोह के लिए पंजीकृत होने के बाद, अस्थि का पैकेट डाकघर के माध्यम से वाराणसी, प्रयागराज, हरिद्वार और गया को स्पीड पोस्ट द्वारा भेजा जा सकता है। अस्थि पैकेट को ठीक से पैक किया जाना चाहिए और उस पर बड़े अक्षरों में 'ओम दिव्य दर्शन' लिखा होना चाहिए, ताकि इसे अलग किया जा सके। भेजने वाले को पैकेट पर अपना पूरा नाम, पता, मोबाइल नंबर आदि लिखना होगा। स्पीड पोस्ट शुल्क सेंडर द्वारा ही वहन किया जाएगा। स्पीड पोस्ट की बुकिंग के बाद सेंडर को ओम दिव्य दर्शन संस्था के पोर्टल पर स्पीड पोस्ट बारकोड नंबर सहित बुकिंग की सारी डिटेल अपडेट करना होगा। पोस्ट ऑफिस पर पैकेट मिलने के बाद उसे ओम दिव्य दर्शन के पते पर पहुंचा दिया जाएगा। उसके बाद, ओम दिव्य दर्शन संस्था, पैनल में शामिल पंडितों के माध्यम से, पूर्व-निर्धारित तिथि और समय स्लॉट पर श्राद्ध समारोह करेगी, जो मृतक के परिवार के सदस्यों को लाइव वेबकास्ट किया जाएगा। इसके बाद गंगा जल की एक बोतल ओडीडी द्वारा बुक की जाएगी और मृतक के परिवार के सदस्यों को संसद मार्ग डाकघर, नई दिल्ली से स्पीड पोस्ट के माध्यम से पहुंचाई जाएगी।