उत्तराखंड- सुनगर में गंगोत्री हाईवे का 20 मीटर हिस्सा नदी में समाया,चीन सीमा से कटा संपर्क

गंगोत्री हाईवे सुनगर में दूसरे दिन भी बंद है। हाईवे का 20 मीटर हिस्सा नदी में गिर जाने के कारण रास्ता नहीं खुल सकता है। बीआरओ की दो मशीनें और 30 मजदूर हाईवे खोलने में जुटे हैं। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने आज शाम तक हाईवे खुलने की उम्मीद जताई है। बता दें कि भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र सुनगर गंगोत्री हाईवे के लिए नासूर बना हुआ है। सोमवार तड़के बिना बारिश के ही यहां भारी भूस्खलन से हाईवे अवरुद्ध हो गया था। सूचना मिलने के बाद से ही बीआरओ के मजदूर व मशीनें हाईवे खोलने में लगे हुए हैं लेकिन हाईवे पर रुक-रुक कर मलबा आने से रास्ता नहीं खुल पा रहा है। ानकारी के अनुसार, सोमवार तड़के कुछ स्थानीय लोग गंगोत्री से गंगा जल लेने के निकले थे। उन्हें हाईवे के बाधित होने से वापस लौटना पड़ा। सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हाईवे पर आवाजाही ठप होने से गंगोत्री धाम के साथ भारत-चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकियों सहित उपला टकनौर क्षेत्र के हर्षिल, मुखबा, धराली, जसपुर, झाला, सुक्की, गंगनानी आदि गांव अलग-थलग पड़ गए हैं। वहीं, हाईवे बंद होने के चलते एसडीआरएफ की टीम ने एक गर्भवती महिला को रेस्क्यू कर अस्पताल में भर्ती कराया। ANI @ANI #WATCH A team of the State Disaster Response Force rescued a pregnant woman who was stranded on the Gangotri National Highway after a landslide occurred near Sunagar, yesterday. The woman was admitted to a local hospital. #Uttarakhand https://twitter.com/i/status/1402154376714625042 Sources:AmarUjala