सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

विपक्ष के हंगामे के बीच कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा में पास, राकेश टिकट बोले- आंदोलन जारी रहेगा

  विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास हो गया। हालांकि कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सदन में विधेयक पर चर्चा की मांग की। इससे पहले विपक्षी सांसदों के नारेबाजी के बीच लोकसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि क़ानून निरसन विधेयक 2021 पेश किया। राज्यसभा में भी आज ही यह बिल पेश किया जाएगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने पहले ही तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया था। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में इस बात की घोषणा की थी। उसके बाद इसे कैबिनेट की बैठक में भी मंजूरी मिल गई थी।   टिकैत का बयान वहीं, लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल के पास हो जाने के बाद राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक एमएसपी को लेकर हमारी मांगे पूरी नहीं होती तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जिन 700 किसानों की मृत्यु हुई उनको ही इस बिल के वापस होने का श्रेय जाता है। MSP भी एक बीमारी है। सरकार व्यापारियों को फसलों की लूट की छूट देना चाहती है। आंदोलन जारी रहेगा। टिकैत ने कहा कि तीन मामलों का समाधान हो गया है अभी 1 मामला बाकी है। 1

अफगानिस्तानः तालिबान आतंकियों पर बड़ी कार्रवाई,दो दिन में 172 करे ढेर

 


 अफगानिस्तानी सुरक्षा बल तालिबान आतंकवादियों पर अब काल बनकर टूट पड़े हैं। अफगानिस्तान में पिछले 48 घंटों के दौरान तालिबान आतंकवादियों के खिलाफ अफगान राष्ट्रीय रक्षा और सुरक्षा बल (एएनडीएसएफ) की सिलसिलेवार कार्रवाई में 172 आतंकवादी मारे गये हैं।  अफगानी रक्षा मंत्रालय ने यह जानकारी दी।अफगानी सेना के मुताबिक नांगरहार , कंधहार, फरयाब, निमरुज, बदख्शां और तखार प्रांतों में एएनडीएसएफ की ओर से छेड़े गये अभियान में 172 तालिबान आतंकवादी मारे गये जबकि 100 से अधिक घायल हुए हैं। मृत आतंकवादियों में तालिबान समूह के कमांडरों में से एक कारी रहमतुल्ला भी शामिल है। अभियान के दौरान काफी संख्या में हथियार बरामद किये गये और बहुत से शक्तिशाली विस्फोटकों को निष्क्रिय किया गया। अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच अमेरिका की मध्यस्थता में शांति प्रक्रिया सितंबर-2020 में शुरू हो गयी थी, लेकिन नतीजा सिफर रहा है। वहीं पिछले कुछ महीनों से देश में हिंसा की घटनाएं बढ़ी है।कुछ हफ्ते पहले भी अफगानिस्तान में 100 से ज्यादा आतंकवादी मारे गए थे। खामा प्रेस के अनुसार, मंत्रालय ने कहा था कि अफगान की सरकारी सुरक्षाबलों और तालिबान के बीच संघर्ष में 100 से अधिक आतंकवादी मारे गए। इतना ही नहीं, अलग-अलग जगहों पर हुए ऑपरेशन के दौरान 50 आतंकवादी घायल हो गएथे, कई हथियार जब्त किए गए और कुछ मात्रा में गोला-बारूद नष्ट कर दिया गया।गौरतलब है कि अफगानिस्तान में हाल के दिनों में हिंसा और तालिबानी विद्रोह में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है। हालांकि, तालिबान ने अभी तक आधिकारिक तौर पर दावा घोषित नहीं किया है, मगर व्यावहारिक रूप से उसने पूरे देश में कई स्थानों पर सुरक्षा चौकियों और काफिले पर हमला करना शुरू कर दिया है।  

टिप्पणियाँ

Popular Post