सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने बनाई 5 लोगों की कमेटी, टिकैत बोले- हम कहीं नहीं जा रहे

  कृषि कानूनों के निरस्त होने के बाद आज संयुक्त किसान मोर्चा के अहम बैठक हुई। इस बैठक में आंदोलन संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। इसके साथ ही 5 लोगों की कमेटी बनाई गई है जो सरकार से एमएसपी और किसानों से केस वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत करेगी। अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी। बैठक के बाद राकेश टिकैत ने बताया कि 5 लोगों की कमेटी बनाई है। यह कमेटी सरकार से सभी मामलों पर बातचीत करेगी। अगली मीटिंग संयुक्त किसान मोर्चा की यहीं पर 7 तारीख को 11-12 बजे होगी। इस 5 लोगों की कमेटी में युद्धवीर सिंह, शिवकुमार कक्का, बलबीर राजेवाल, अशोक धवाले और गुरनाम सिंह चढुनी के नाम पर सहमति बनी है। बताया जा रहा है कि यह संयुक्त किसान मोर्चा की यह हेड कमेटी होगी जो किसानों से जुड़े मुद्दे पर महत्वपूर्ण फैसले लेगी। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अब तक सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर बातचीत के लिए किसानों को नहीं बुलाया गया है। लेकिन जब भी सरकार की ओर से किसानों को बातचीत के लिए बुलाया जाएगा, यह 5 लोग ही जाएंगे। राकेश टिकैत की ओर से फिर दोहराया गया कि आंदोलन फिलहाल खत्म नहीं होगा। उन

चन्‍दौसी से भेजे गए स‍िम से लीक हो रही थी देश की खुफिया जानकारी, सम्‍भल में एटीएस की छापेमारी



 मुरादाबाद  /  मंडल के सम्भल जिले के चन्दौसी शहर से भेजे गए सिमकार्ड के माध्यम से देश की खुफिया जानकारी पड़ोसी मुल्क को लीक की जा रही थी। एटीएस ने शुक्रवार की शाम चन्दौसी शहर में दबिश देकर चार सिम डिस्ट्रीब्यूटर को हिरासत में लिया है। कोतवाली में सभी से पूछताछ की गई। एटीएस के सीओ भी लखनऊ से चन्दौसी पहुंचेे थे। अभी तक की पूछताछ में यह बात सामने आई है क‍ि चार डिस्ट्रीब्यूटर ने 250 सिम एक व्यक्ति के माध्यम से दिल्ली भेजे थे।

कुछ दिनों पहले एक सेवानिवृत्त सैनिक को एटीएस ने हिरासत में लिया था। वह देश की खुफिया जानकारी पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को बता रहा था। इसके बाद से मामले में तेजी से जांच शुरू हो गई थी। जिस सिम के माध्यम से पड़ोसी मुल्क को जानकारी दी जा रही थी वह कहांं से खरीदे गए थे। जांच के दौरान एटीएस की टीम को जानकारी मिली की यह सिम सम्भल जिले के चन्दौसी शहर से दिल्ली भेजे गए थे। जानकारी मिलते ही एटीएस बरेली टीम शुक्रवार को शाम चन्दौसी पहुंच गई। औरछी चौराहे से टीम ने चार डिस्ट्रीब्यूटर को हिरासत में ले लिया। उन्हें टीम कोतवाली ले आई। यहां पर उनसे पूछताछ की जाने लगी। इसी बीच लखनऊ से एटीएस से दो टीम भी चन्दौसी पहुंच गई। एटीएस के सीओ सविरत्न गौतम भी पहुंच गए। सभी से उन्होंने भी पूछताछ की। पूछताछ में यह बात निकलकर सामने आई है कि चन्दौसी के चार डिस्ट्रीब्यूटर के माध्यम से 250 सिम दिल्ली भेजे गए थे। इन्हीं सिमों के माध्यम से पाकिस्तान को देश की खुफिया जानकारी दी जा रही थी। हालांकि एटीएस ने मीडिया से दूरी बनाए रखी और जांच के बाद कुछ जानकारी देने की बात कही। 


Sources:जेएनएन

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव