दो दिवसीय कर्नाटक दौरे पर गृह मंत्री अमित शाह, सुलझाएंगे राजनीतिक गतिरोध!



  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अपने दो दिवसीय दौर के तहत कर्नाटक पहुंचे। उन्होंने कर्नाटक के शिमोगा जिले में द्रुत कार्य बल (रैपिड एक्शन फोर्स) की एक नयी बटालियन परिसर की आधारशिला रखते हुए कहा कि आज मेरे लिए बहुत खुशी की बात है कि CRPF के रैपिड एक्शन फोर्स की 97वीं बटालियन का यहां शिलान्यास हो रहा है। 230 करोड़ की लागत से यहां निर्माण कार्य होगा। प्रशासनिक भवन, निवास केंद्र, अस्पताल, केंद्रीय स्कूल और खेल-कूद के स्टेडियम यहां खुलने जा रहे हैं। खबरों के अनुसार अमित शाह कर्नाटक में राजनीतिक गतिरोध की आ रही खबरों को भी बैठक के जरिये सुलझाने का प्रयास करेंगे।बता दें कि द्रुत कार्य बल की 97वें बटालियन के मुख्यालय के लिए कर्नाटक सरकार ने 50.29 एकड़ भूमि आवंटित की है। द्रुत कार्य बल एक विशेष बल है जिसे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 10 बटालियन को परिवर्तित करके बनाया गया था। दंगों या दंगों जैसी उत्‍पन्‍न स्थितियों के दौरान समाज के सभी वर्गों के बीच विश्‍वास पैदा करना और शांति बहाल करना इस बल का मुख्य काम है। इस बटालियन का क्षेत्राधिकार कर्नाटक के कुछ जिलों के अलावा तमिलनाडु, केरल, गोवा और पुडुचेरी रहेगा जहां आवश्यकता के हिसाब से केंद्र सरकार उन्हें तैनात कर सकती है।

कर्नाटक के राजनीतिक गतिरोध

कर्नाटक में येदियुरप्पा सरकार के कैबिनेट विस्तार के बाद से ही मचने वाला राजनीतिक बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा। कर्नाटक में कैबिनेट विस्तार तो हो गया लेकिन पार्टी के विधायकों ने राज्य के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा पर पैसे लेने और ब्लैकमेलिंग के डर से मंत्पी पद पांटने का आरोप लगाया है। जिसके बाद से कांग्रेस समेत विपक्षी नेताओं ने हमले तेज कर दिए हैं। अमित शाह का कर्नाटक दौरा इस मामले में भी अहम है। सूत्रों के अनुसार अमित शाह कर्नाटक बीजेपी नेताओं की बैठक ले सकते हैं और कोर कमेटी की बैठक के जरिये मामले को सुलझाने का प्रयास किया जा सकता है।