सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने बनाई 5 लोगों की कमेटी, टिकैत बोले- हम कहीं नहीं जा रहे

  कृषि कानूनों के निरस्त होने के बाद आज संयुक्त किसान मोर्चा के अहम बैठक हुई। इस बैठक में आंदोलन संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। इसके साथ ही 5 लोगों की कमेटी बनाई गई है जो सरकार से एमएसपी और किसानों से केस वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत करेगी। अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी। बैठक के बाद राकेश टिकैत ने बताया कि 5 लोगों की कमेटी बनाई है। यह कमेटी सरकार से सभी मामलों पर बातचीत करेगी। अगली मीटिंग संयुक्त किसान मोर्चा की यहीं पर 7 तारीख को 11-12 बजे होगी। इस 5 लोगों की कमेटी में युद्धवीर सिंह, शिवकुमार कक्का, बलबीर राजेवाल, अशोक धवाले और गुरनाम सिंह चढुनी के नाम पर सहमति बनी है। बताया जा रहा है कि यह संयुक्त किसान मोर्चा की यह हेड कमेटी होगी जो किसानों से जुड़े मुद्दे पर महत्वपूर्ण फैसले लेगी। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अब तक सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर बातचीत के लिए किसानों को नहीं बुलाया गया है। लेकिन जब भी सरकार की ओर से किसानों को बातचीत के लिए बुलाया जाएगा, यह 5 लोग ही जाएंगे। राकेश टिकैत की ओर से फिर दोहराया गया कि आंदोलन फिलहाल खत्म नहीं होगा। उन

बदायूं कांड-सामने आ जायेगा पूरा सच,दो दिन में आ सकती है फॉरेंसिक रिपोर्ट

 

बदायूं के उघैती कांड के अधिकांश रहस्यों से पर्दा उठ चुका है लेकिन कई रहस्य ऐसे भी हैंए जिन पर पर्देदारी बरकरार है। उन रहस्यों को पुलिस अपने दम पर उजागर भी नहीं कर सकतीए क्योंकि इसके लिए फोरेंसिक टीमों की दरकार थी। उन रहस्यों को खंगालते हुए सच सामने लाने के लिए शासनस्तर से चुनिंदा वैज्ञानिकों की टीम यहां भेजी गई थी। वहीं उम्मीद है कि अगले दो दिन में यह रिपोर्ट पुलिस अधिकारियों को मिल जाएगी और इसी आधार पर तफ्तीश को आगे बढ़ाया जाएगा।जिले के उघैती कांड में जहां मुख्य आरोपी महंत समेत उसके चेले व चालक के बयानों ने कई परतें खोली हैं। वहीं पीड़िता के मोबाइल से भी पुलिस ने कई रहस्य उजागर कर लिए हैं। मंदिर में घटनाक्रम से कुछ देर पहले मौजूद लोगों समेत इलाकाई लोगों का बयान भी लिया जा चुका है। ऐसे में अब तक का पुलिस का काम तकरीबन पूरा हो चुका है और शासन को हर बिंदु पर रिपोर्ट भी भेजी जा चुकी है लेकिन इस सबके के बाद तफ्तीश को किस तरह आगे बढ़ाया जाएए इसके लिए फोरेंसिक टीम की रिपोर्ट का इंतजार हैए क्योंकि टीम ने पूरे घटनाक्रम का यहां आकर कई घंटे डेमो करने के साथ ही कई तथ्यों पर काम किया था। चूंकि पूरे मामले में शासनस्तर से मानिटरिंग हो रही है। ऐसे में ये रिपोर्ट भी आने वाले दो दिन में यहां पहुंचने की उम्मीद है। इन रिपोर्ट्स के अध्ययन के बाद ही पुलिस के सामने पूरी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। 

फिर से मंदिर बन जाएगा घटनास्थल

अभी तक घटनास्थल का रूप ले चुका वह मंदिर पुलिस और फोरेंसिक टीमों की निगरानी में है। वहां किसी का भी आना.जाना निषेध है। हालांकि टीमें अपना काम करके यहां से जा चुकी हैं लेकिन कब किस तथ्य पर दोबारा पड़ताल करना पड़ जाएए ऐसे में अभी घटनास्थल को सील रखा गया है। माना जा रहा है कि वो रिपोर्ट्स आने के बाद ही मंदिर से पहरा हटाया जाएगा। 

Sources:Hindustansamachar


टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव