आसन वेटलैंड क्षेत्र में फैल रही गंदगी, पक्षी प्रेमी परेशान



आसन बैराज झील से निकालकर कूड़ा सड़क के किनारे डाले जाने से आसन वेटलैंड क्षेत्र में गंदगी फैल रही है। प्रवासी परिंदे देखने आने वाले पर्यटकों को भी कूड़े की दुर्गंध से परेशानी हो रही है।




 


विकासनगर / आसन बैराज झील से निकालकर कूड़ा सड़क के किनारे डाले जाने से आसन वेटलैंड क्षेत्र में गंदगी फैल रही है। प्रवासी परिंदे देखने आने वाले पर्यटकों को भी कूड़े की दुर्गंध से परेशानी हो रही है। प्रतिदिन निकलने वाले कूड़े का निस्तारण नहीं होने से यहां आने वाले पर्यटकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ईको समिति ने पर्यटकों की सुविधा को देखते हुए इंटक से निकलने वाले कूड़े के निस्तारण की व्यवस्था करने की मांग चकराता वन प्रभाग व उत्तराखंड जल विद्युत निगम अधिकारियों से की है।


आसन बैराज से कुल्हाल स्थित जलविद्युत परियोजना को पानी की सप्लाई देने के लिए बनाई गई शक्तिनहर से निकलने वाला कूड़ा बैराज में आने वाले पर्यटकों की परेशानी का सबब बना हुआ है। प्रतिदिन भारी मात्रा में निकलने वाले कूड़े के मामले में जल विद्युत निगम के कर्मचारी लापरवाही बरत रहे हैं। कर्मचारी कूड़े को बैराज के किनारे पर ही एकत्रित कर रहे हैं, जिससे पूरे क्षेत्र में दुर्गंध का वातावरण बना हुआ है। हाल के दिनों में रामसर साइट घोषित आसन वेटलैंड में इन दिनों विदेशी पक्षियों को देखने के लिए पर्यटकों का तांता लग रहा है। ऐसे में बैराज के किनारे की इस प्रकार की गंदगी बैराज आने वाले पर्यटकों में अच्छा संदेश नहीं दे रही है। 



 

स्थानीय ईको समिति अध्यक्ष मोहम्मद आरिफ का कहना है कि सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं बना रही है, लेकिन कुछ विभाग सरकार के प्रयासों पर ग्रहण बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि आसन बैराज पर कूड़ा फैलाने के मामले में जल विद्युत निगम के महाप्रबंधक को पत्र लिखकर उनसे कार्रवाई की मांग की गई है। जिससे यहां आने वाले पर्यटकों को किसी प्रकार की समस्या न हो। 


 


Sources:JNN