बागी नेताओं की घर वापिसी पर हरीश रावत के बयान से हलचल।


देहरादून /  पूर्व सीएम हरीश रावत का एक बयान मीडिया के साथ ही राजनीति में भी चर्चा का विषय बना हुआ है। हरीश रावत ने कांग्रेस से भाजपा में गए नेताओं को लेकर कहा कि अगर कांग्रेस से बागी हुए विधायक माफी मांगते हैं तो उनकी घर वापसी पर विचार किया जाएगा।


कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कांग्रेस के बागी नेताओं की साशर्त माफी का राग छेड़ कर सियासी तापमान को बढ़ा दिया है। हरीश रावत के मुख्यमंत्री रहने के दौरान वर्ष 2016 में कांग्रेस के 9 विधायकों ने बगावत कर भाजपा का दामन थाम लिया था। प्रदेश में इस घटनाक्रम के बाद राष्ट्रपति शासन भी लगा था।


हरीश रावत के इस बयान से सियासी गलियारों में नई चर्चा को जन्म दे दिया है। कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों इसके निहितार्थ खोजने में जुटे हैं, इनका कहना है कि किसी की घर वापसी का फैसला नीतिगत है और यह पार्टी हाईकमान ही तय कर सकता है, फिर नेता प्रतिपक्ष, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सहित उस समय के दौर में जूझने वाले नेताओं की राय लेनी जरूरी होगी।


कांग्रेस का एक बहुत बड़ा धड़ा इन नेताओं को माफ करने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं है। हरीश रावत का यह बयान एक टीवी चैनल में बातचीत के दौरान सामने आया जो मीडिया के साथ ही राजनीतिक रूपसे चर्चा का विषय बना हुआ है।


Source :Agency news