सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

सीडीएस बिपिन रावत का निधन:उत्तराखंड में तीन दिन का राजकीय शोक

 


 सीडीएस जनरल बिपिन रावत के निधन पर राज्य में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। 9 दिसंबर से 11 दिसंबर तक राज्य में राजकीय शोक रहेगा। राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से आदेश किए गए। सचिव विनोद कुमार सुमन की ओर से राजकीय शोक के आदेश जारी किए गए। विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन गुरुवार को सीडीएस जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि दी जाएगी। जनरल रावत को संवेदना व्यक्त करने के अलावा पहले दिन सदन में कोई भी कामकाज नहीं होगा। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि विधानसभा में हुई कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में सर्व सम्मति से यह निर्णय लिया गया है।उन्होंने कहा कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत देश के साथ ही उत्तराखंड की भी शान थे। उत्तराखंड का होने की वजह से उनका हम सभी से विशेष लगाव था। अग्रवाल ने कहा कि गुरुवार को विधानसभा की कार्यवाही 11 बजे शुरू होगी लेकिन पहले दिन के सभी कार्यक्रम रोककर उन्हें श्रद्धांजलि प्रदान की जाएगी। संवेदना के बाद सदन की कार्यवाही को अगले दिन तक के लिए स्थगित कर दिया जाएगा।

टिप्पणियाँ

Popular Post