सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

अखिलेश ने बना रखा है पिता मुलायम को बंधक: प्रमोद गुप्ता

यू.पी में जैसे ही विधानसभा चुनाव का वक्त नजदीक आता जा रहा है दल-बदल का खेल भी चरम पर है । आपको बता दें कि बिधूना विधानसभा से विधायक विनय शाक्य और उनके भाई के सपा में शामिल होने के बाद से सियासी पारा और गर्म हो गया है।इसी क्रम में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साढ़ू प्रमोद गुप्ता उर्फ एलएस भी पाला बदलने का ऐलान कर चुके हैं। जैसा की खबर है कि वह भाजपा में शामिल होने के लिए लखनऊ पहुंच चुके हैं। उनके भाजपा में जाने के बाद बिधूना की सियासत में एक बार फिर से उलट फेर के आसार दिख रहे हैं। माना ये जा रहा है कि सपा से प्रमोद प्रबल दावेदार थे लेकिन विनय व उनके समर्थकों के शामिल से होने से चुनावी गणित गड़बड़ा गई। वहीं कुछ लोग इसे प्रसपा सुप्रीमो शिवपाल द्वारा टिकट बंटवारे को लेकर अंदर खाने मची रार का असर बता रहे हैं। आपको मालूम हो बिधूना विधान सभा में प्रमोद गुप्ता एलएस पिछड़ी जाति पर अच्छी पकड़ रखते हैं। मुलायम सिंह की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता ;अब साधना यादवद्ध के बहनोई हैं और मुलायम सिंह के साढू। वह एक बार टिकट न मिलने पर निर्दलीय नगर पंचायत का चुनाव लड़े और जीते थे। इसके बाद 2012 में सपा ने प

उत्तराखंड: ग्रेड पे दिए जाने को लेकर पुलिस कर्मियाें के परिवार का सीएम आवास कूच

 


ग्रेड पे दिए जाने की मांग को लेकर पुलिसकर्मियों के परिवार के लोगों ने राजधानी देहरादून में फिर से आंदोलन शुरू कर दिया है। इसी क्रम में सोमवार को बड़ी संख्या में एकत्र हुई महिलाओं ने पहले गांधी पार्क गेट पर धरना दिया।आंदोलनकारियों ने 4600 ग्रेड पे दिए जाने की मांग को लेकर सचिवालय कूच किया। इस दौरान पुलिस बल ने बैरिकेड लगाकर प्रदर्शनकारियों को रोक लिया। जिसके बाद प्रदर्शनकारी मुख्यमंत्री आवास के लिए कूच कर गए। वहीं इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने आत्मदाह की चेतावनी भी दी।प्रदर्शनकारी अपने बच्चों को लेकर कूच के लिए पहुंचे थे। प्रदर्शनकारीयों को मुख्यमंत्री आवास से पहले ही रोक दिया गया। जिससे गुस्साए प्रदर्शनकारी बैरिकेडिंग के समीप धरने पर बैठ गए। प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस अधिकारियों ने भी पुलिसकर्मियों के परिजनों को समझाया, लेकिन वह नहीं माने। जिसके बाद पुलिस के परिजनों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान पुलिस व पुलिसकर्मियों के परिजनों के बीच हाथापाई हुई। बता दें कि पुलिसकर्मियों का यह आंदोलन मार्च से शुरू हुआ था। इस बीच सोशल मीडिया पर भी आंदोलन चलाया गया। इसके बाद कोविड काल में काला मास्क लगाकर विरोध दर्ज कराया गया था।वहीं सोमवार को गिरफ्तारी के दौरान महिला दारोगा और महिला पुलिस परिजन ने एक दूसरे का कॉलर पकड़ लिया। इतना ही नहीं गिरफ्तारी के दौरान पुलिस वाहन के अंदर महिला दारोगा व महिला पुलिस परिजन के बीच हाथापाई भी हुई। प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस द्वारा घंटों मशक्कत की गई। मामले में पुलिसकर्मियों के परिजनों ने इससे पहले दो बार मुख्यमंत्री आवास का कूच किया है।बीते दिनों पुलिसकर्मियों के परिजन 11 घंटे हाथीबड़कला बैरियर पर अपनी मांग को लेकर अड़े थे। बता दें कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विगत 21 अक्टूबर को पुलिसकर्मियों को 4600 ग्रेड पे दिए जाने की घोषणा की थी। 



टिप्पणियाँ

Popular Post