सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

उदयगामी सूर्य को अर्घ्य के साथ चार दिवसीय छठ पूजा का महिलाओं ने किया पारण

 


 ऋषिकेश / गुरुवार को भोर में पूर्व दिशा की ओर आसमान पर जैसे ही लालिमा छाई व्रतियों का उत्साह चरम पर पहुंच गया। भगवान भाष्कर के स्वागत में सुहागिनों ने मंगलगीत गाना शुरू कर दिया तो वहीं युवाओं ने खूब आतिशबाजी की। बैंडबाजों के धुन और आतिशबाजी की चौकाचौंध के बीच सूर्य ने जैसे सुबह करीब 6:40 बजे दर्शन दिए व्रतियों ने उन्हें अर्घ्यदान कर पूजा की और अपना व्रत संपन्न किया।लोक आस्था के महापर्व छठ पर उदयगामी सूर्य को अर्घ्य देने के त्रिवेणी घाट शीशम झाड़ी और अन्य नदियों के तट पर महिलाओं का हुजूम उमड़ पड़ा।

 सजधज कर सुहागिनें घर से तड़के करीब चार बजे छठ मैया के मंगल गीत गाते हुए समूहों में निकलीं। आगे-आगे पुरुष दउरी में फल-फूल, पकवान समेत पूजन सामग्री लेकर चल रहे थे। घाट पर महिलाओं ने दीप जलाकर वेदिका सजाई। इस दौरान छठ मइया के जयकारे से घाट गूंजते रहे। सूर्योदय से पूर्व ही व्रती महिलाएं घुटनों तक पानी में शृंखला बनाकर खड़ी हो गईं। कुछ देर में जैसे ही सूर्य भगवान प्रकट हुए, महिलाओं ने उनको अर्घ्यदान कर मायके, ससुराल समेत पूरे जगत के कल्याण की मंगलकामना की।

आसपास क्षेत्र और जनपदों से आए कई परिवार ऐसे भी थे जो बुधवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्यदान देने के बाद घाटों पर ही भगवान सूर्य के उदय का इंतजार करने लगे। महिलाएं भोर में सूर्य को अर्घ्य देने के लिए परिवार संग पूरी रात जगती रहीं। रात भर घरों में छठ मैया के मंगल गीत गाए गए। महिलाओं ने छठ पूजा की कहानियां सुनाई। त्रिवेणी घाट पर लगाए गए पंडाल के नीचे सैकड़ों व्रती महिलाओं ने स्वजन संग रात गुजारी। त्रिवेणी घाट पर रातभर भजन कीर्तन और बिरहा मुकाबला चलता रहा। उगते सूरज को अर्घ्यदान के साथ ही चार दिवसीय छठ पूजा का महिलाओं ने पारण किया।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव