सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

1962 युद्ध के हीरो ब्रिगेडियर आरवी जतर को व्हील चेयर पर बैठाकर मेमोरियल तक ले गए राजनाथ सिंह

 


 जम्मू  /  भारतीय शूरवीरों का कोई भी सानी नहीं है। यही वजह है कि जब-जब भी गौरव गाथाओं का जिक्र होता है तब-तब भारतीय शूरवीरों के अदम्य साहस से लबरेज बहादुरी के किस्से न सिर्फ भारत के घर-घर में सुनाए जाते हैं, बल्कि यह आने वाला पीढ़ी में देश सेवा का भी जज्बा पैदा करते हैं। ठीक ऐसा ही आज जमा देने वाली ठंड रेजांग ला में देखने को मिला।पूर्वी लद्दाख में चुशुल में शून्य से 20 डिग्री नीचे के तापमान में 59 वर्ष पहले लड़ी गई रेजांग ला की लड़ाई में 114 नायकों को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज यानि वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर श्रद्धांजलि अर्पित कर देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले सैनिकों का हौसला बढ़ाया।इस दौरान सबसे पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर आरवी जतर को स्कार्ट करते हुए कहा कि वह ही नहीं, समूचे देशवासी जतर के साहस और शौर्य को नमन करते हैं। उन्होंने कहा कि 114 वीर जवानों ने जान देकर इस सीमा की रक्षा की है। वो केवल एक बहादुर सैनिक नहीं थे, बल्कि एक आध्यात्मिक पुरुष थे, क्योंकि देश के लिए बलिदान वही दे सकता है, जिसका मन बड़ा होगा। मैं उन्हें नमन करता हूं।सेना की 13 कुमाऊं के ब्रिगेडयर आरवी जतर ने वर्ष 1962 में चीन के खिलाफ वीरता से लड़ाई लड़ी थी। आरवी जतर उस समय युद्ध के दौरान कंपनी के कमांडर थे। उन्हीं के नेतृत्व में भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों के खिलाफ लोहा लिया था।इस दौरान आयोजित कार्यक्रम में उन पांच घंटों की यादों को फिर से ताजा किया गया जब मेजर शैतान सिंह के नेतृत्व में सेना के जवानों ने 18 दिसंबर 1962 को पांच घंटों में दुश्मन के सात हमले नाकाम कर दिए थे। इतना ही नहीं, भारतीय सेना के शूरवीरों ने बलिदान देकर लद्दाख पर कब्जा करने की दुश्मन की साजिश को भी नाकाम कर दिया था।18 नवंबर 1962 को सुबह साढ़े तीन बजे के करीब छह हजार से अधिक चीनी सैनिकों ने लद्दाख पर कब्जा करने के लिए चुशुल पर हमला बोल दिया था। ऐसे में चुशुल एयरफील्ड की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले 3 कुमाउं रेजीमेंट की चार्ली कंपनी के 120 वीरों ने कड़ी ठंड में परमवीर चक्र विजेता मेजर शैतान सिंह की कमान में मोर्चा संभाल लिया। बर्फ से लदी अठारह हजार फीट उंची रेजांग ला चोटी पर भारतीय सैनिकों ने अंतिम गोली अंतिम सांस तक लड़ते हुए चीन के सात हमले नाकाम कर उसके 1300 सैनिकों को मार गिराया था।  

टिप्पणियाँ

Popular Post