सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

अरुणाचल: भारतीय वायुसेना का एम.आई-17 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त,सभी लोग सुरक्षित

 


 ईटानगर / भारतीय वायुसेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर गुरुवार को अरुणाचल प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें 2 पायलट और चालक दल के 3 सदस्य मौजूद थे। हालांकि सभी के सुरक्षित होने की जानकारी प्राप्त हो रही है। हेलीकॉप्टर क्रैश क्यों हुआ ? अभी इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है।समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी कि एमआई-17 हेलीकॉप्टर अरुणाचल प्रदेश में 2 पायलटों और 3 चालक दल के सदस्यों के साथ दुर्घटनाग्रस्त हो गया। सभी सुरक्षित हैं। जब यह घटना हुई तब हेलीकॉप्टर हवाई रखरखाव के लिए उड़ान भर रहा था। घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दिए जाएंगे।इससे पहले अक्टूबर माह में मध्य प्रदेश के भिंड जिले में वायुसेना का एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इसकी जानकारी खुद भारतीय वायुसेना ने दी थी। उन्होंने ट्वीट किया था, ‘‘भारतीय वायुसेना के मिराज 2000 विमान में आज सुबह सेंट्रल सेक्टर में प्रशिक्षण उड़ान के दौरान तकनीकी खराबी आ गई। पायलट सुरक्षित बाहर निकल आया है। दुर्घटना के कारण का पता लगाने के लिए जांच के आदेश दिए गए हैं।’’ वहीं, सितंबर में जम्मू-कश्मीर के उधमपुर जिले के शिवगढ़ धार इलाके की एक पहाड़ी पर सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। जिसमें दो पायलटों की मौत हो गई थी। अगस्त में भी दो पायलटों ने अपनी जान गंवाई थी। तब पठानकोट के पास रंजीत सागर बांध झील में सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

टिप्पणियाँ

Popular Post