सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

जदयू के 15 साल बेमिसाल या नाकामयाबी का जश्न-ए-फेल्योर,तेजस्वी ने दागे सवाल

 


बिहार में नीतीश कुमार की सरकार के 16 साल पूरे होने पर जदयू द्वारा राज्यस्तरीय कार्यक्रम किया गया है। जदयू के नेता, मंत्री, सांसद, विधायक, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक समेत सभी नेता अलग अलग जिलों में जाकर सरकार के कार्यों को लोगों तक पहुंचा रहे हैं। जदयू के नेता लोगों को यह बता रहे हैं कि नीतीश कुमार ने सीएम रहते उनके लिए क्या क्या किया। इस कार्यक्रम का नाम दिया गया है, "समावेशी नेतृत्व और समावेशी विकास के 15 साल बेमिशाल।" लेकिन नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जदयू के इस आयोजन को जश्न-ए-फेल्योर करार देते हुए सीएम नीतीश कुमार पर करारा हमला किया है।अपने ट्वीटर हैंडल और फेसबुक पेज पर इसकी जानकारा देते हुए तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को नाकामयाब सीएम और सरकार को सबसे फिसड्डी सरकार बताया है। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश  कुमार से 21 सवाल पूछे हैं। तेजस्वी यादव ने ट्वीट करके कहा है कि मुख्यमंत्री लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास रखते हैं तो इन सवालों का उत्तर अवश्य देंगे।


1. नीतीश कुमार बिहार की 60 फीसदी आबादी अर्थात युवाओं को जवाब दें- उनके 16 वर्षों के शासन के बाद भी आज बिहार पूरे देश में गरीबी और बेरोजगारी का मुख्य केंद्र क्यों बना हुआ है? क्यों युवाओं को अपनी योग्यता और शिक्षा के नीचे जाकर दूसरे प्रदेशों में अपमानित होकर काम ढूंढने पर विवश होना पड़ता है? 

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव