पानी पिलाने के चक्कर में दादी पोती समेत फिसल कर नदी में गिरी, दोनों की तलाश जारी

 



 पिथौरागढ़ जिले के झूलाघाट में मुंडन संस्कार में शामिल होने पहुंचींं दादी और आठ साल की पोती काली नदी के प्रचंड वेग में बह गईं। वारदात तब हुई, जब पोती को पानी पिलाते वक्त वृद्धा फिसल गई और वह पोती के साथ बह गईं।  पुलिस के अनुसार रविवार को झूलाघाट के पास सीपू गांव के अमर चंद के बेटे का काली नदी किनारे लटेश्वर मंदिर में मुंडन संस्कार था। इसमें गांव की तारा देवी (52) अपनी पोती लतिका (8 वर्ष) के साथ आई थीं। इस दौरान पोती ने पीने का पानी मांगा। पोती के पानी पिलाने दादी तारा देवी नदी में उतरी तो उनका पैर फिसल गया।  रविवार दोपहर हुई घटना में बचने के प्रयास में तारा देवी ने पोती का हाथ पकड़ा, इस बीच पानी की तेज लहर दोनों को बहा ले गई। कार्यक्रम में शामिल लोग जब तक मदद के लिए पहुंचते, दोनों लहरों के बीच ओझल हो गए। सूचना पुलिस व एसएसबी के जवानों से काफी देर तक सर्च अभियान चला, लेकिन उनका कोई सुराग नहीं लग सका। 

दादी और पोती की नदी में बहने की सूचना के बाद सर्च ऑपरेशन  चलाया गया। लेकिन दोनों का फिलहाल कोई पता नहीं चल सका है। सर्च अभियान जारी रहेगा। 
तारा सिंह राणा, थानाध्यक्ष, झूलाघाट   


Sources:Agency News