सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

अखिलेश यादव-राजभर की जोड़ी का ऐलान,बंगाल में खेला होबे के बाद अब यूपी में खदेड़ा होबे

      सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने अपनी पार्टी के 19वें स्थापना दिवस के अवसर पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपने मंच पर बुलाकर आगामी विधानसभा चुनाव में छोटे बड़े दलों के गठबंधन को मंच मुहैया कराने की कोशिश की है। ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि वह भावी सीएम को आपने सामने लेकर आए हैं।  उन्होंने कहा कि वह समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। अखिलेश यादव के साथ रैली में ओपी राजभर ने कहा कि बंगाल में 'खेला होबे' हुआ था तो यूपी में 'खदेड़ा होबे'। राजभर ने कहा कि 2022 में अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनेंगे। सरकार बनी तो घरेलू बिजली का बिल 5 साल तक माफ किया जाएगा। अखिलेश यादव ने कहा कि सपना दिखाया की चप्पल पहनने वाला हवाई जहाज में चलेगा, आज महंगाई के कारण चप्पल पहनने वाले व्यक्ति की मोटरसाइकिल भी चल नहीं पा रही है।  आज पेट्रोल की कीमत क्या है? क्या हालत कर दी जनता की। अखिलेश यादव जी ने कहा जब कोरोना जैसी महामारी आई तब सरकार ने बेसहारा छोड़ दिया सरकार ने मदद नहीं की। इससे पहले ओपी राजभर ने कहा कि यूपी के लोग बीजेपी क

रालोद की महापंचायत में उमड़ा किसानो का सैलाब

शामली/ विवाद का पर्याय बने कृषि कानूनों के विरोध में गांव भैंसवाल में स्वामी कल्याण देव कन्या गुरुकुल में आज रालोद के आह्वान पर किसान महापंचायत हुई। जिसमें रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई हिंसा भाजपा की साजिश थी। उपद्रवियों को दिल्ली पुलिस मूक दर्शक बनकर देखती रही। उन्होंने कहा कि जो आज किसानों के साथ नहीं उन्हें आगामी चुनाव में वोट नहीं देना है। महापंचायत में भाकियू के अध्यक्ष नरेश टिकैत के छोटे भाई नरेंद्र ने भी शिरकत की। वहीं राकेश टिकैत ने शामली में होने वाले आंदोलन से खुद को किनारा किया है। कहा है कि इस पंचायत से भाकियू का कोई लेनादेना नहीं है। जयंत चौधरी ने कृषि कानूनों पर बोलते हुए कहा कि सरकार कृषि कानूनों पर अडिग है। सरकार को इतना अंहकार नहीं करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि जब‍ सभी लोग इस कानून का विरोध कर रहे हैं तो सरकार को इसको वापस ले लेना चाहिए। उन्‍होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर विद्यानसभा में किसानों के प्रतिनिधि कम हो गए है। अब फिर से विधानसभा में प्रतिनिधियों को भेजना होगा। इसके लिए किसान नेताओं को जीताने की अपील की। Sources:IndianIdol

टिप्पणियाँ

Popular Post