सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

मार्च से लगेगी 12 से 14 साल तक के बच्चों को वैक्सीन

जैसा की मालूम है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान बहुत तेजी से चल रहा है। इसी कड़ी में 3 जनवरी से सरकार ने 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। इसके अलावा 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए बूस्टर डोज की भी शुरुआत हो चुकी है।]  इन सबके बीच बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर अच्छा समाचार आ रहा है। आपको बता दें देश में मार्च महीने से 12 से 14 साल तक के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन लगना शुरू हो जाएगा। इस बात की जानकारी टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के प्रमुख एनके अरोड़ा ने दी। आपको बता दें कि देश में राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड.19 रोधी टीकों की 157.20 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर बताया कि 3 जनवरी से अब तक 15.18 आयु वर्ग के 3.5 करोड़ से अधिक बच्चों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लगा दी गई है।  वहीं देश में टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसने वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई को बेहद मजबूत बनाया और इसके चलते ही लो

बलूचिस्तान में आतंकवादी हमलों में पाकिस्तानी सेना के पांच सैनिक मारे गए

कराची / पाकिस्तान के अशांत बलूचिस्तान सूबे के दो अलग-अलग इलाकों में संदिग्ध आतंकवादियों द्वारा किए गए हमलों में पाकिस्तानी सेना के कम से कम पांच सैनिक मारे गए जबकि अन्य दो घायल हुए हैं। फ्रंटियर कोर के सैनिकों को निशाना बनाकर बृहस्पतिवार को बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा के बाहरी इलाके और कोहलु जिले के दूरदराज इलाके में हमला किया गया। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि पहला हमला क्वेटा से बाहर बाइपास इलाके में हुआ।उन्होंने बताया कि यहां रिमोट संचालित बम कोमोटरसाइकिल में रखकर फ्रंटियर कोर के काफिले को निशाना बनाया गया जिसमें एक सैनिक की मौत हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए। उन्होंने बताया कि धमाका फ्रंटियर कोर के वाहन के पास हुआ जो गश्त लगा रहा था। अधिकारियों ने बताया कि दूसरा हमला कोहलु जिले के कहान इलाके में हुआ जहां संदिग्ध आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर की जांच चौकी को बृहस्पतिवार देर रात निशाना बनाया और इसमें चार सैनिक मारे गए।उन्होंने बताया, ‘‘हथियारबंद हमलावरों ने जांच चौकी पर अंधाधुंध फायरिंग की जिसका सैनिकों ने भी जवाब दिया।’’ गौरतलब है कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के केंद्र बलूचिस्तान में आतंकवादी और अलगावादी गतिविधियों में इजाफा हुआ है और हाल के दिनों में यहां सुरक्षा बलों पर हमले बढ़े हैं। 15 फरवरी को भी कच्छ के दूरदराज के इलाके में मौजूद फ्रंटियर कोर की जांच चौकी को निशाना बनाया गया था जिसमें एक सैनिक की मौत हुई थी जबकि अन्य एक घायल हुआ था। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post