सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

मार्च से लगेगी 12 से 14 साल तक के बच्चों को वैक्सीन

जैसा की मालूम है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान बहुत तेजी से चल रहा है। इसी कड़ी में 3 जनवरी से सरकार ने 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। इसके अलावा 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए बूस्टर डोज की भी शुरुआत हो चुकी है।]  इन सबके बीच बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर अच्छा समाचार आ रहा है। आपको बता दें देश में मार्च महीने से 12 से 14 साल तक के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन लगना शुरू हो जाएगा। इस बात की जानकारी टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के प्रमुख एनके अरोड़ा ने दी। आपको बता दें कि देश में राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड.19 रोधी टीकों की 157.20 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर बताया कि 3 जनवरी से अब तक 15.18 आयु वर्ग के 3.5 करोड़ से अधिक बच्चों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लगा दी गई है।  वहीं देश में टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसने वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई को बेहद मजबूत बनाया और इसके चलते ही लो

शांतिपूर्ण विधानसभा चुनाव कराने के लिए देश के पांच राज्यों में पहुंच रहे हैं सीएपीएफ के जवान

इस साल पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। यह राज्य असम, पश्चिम बंगाल, पुडुचेरी, तमिलनाडु और केरल हैं। चुनाव आयोग के आदेश के बाद विधानसभा चुनावों के शांतिपूर्ण आयोजन को सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की कंपनियों ने इन पांच राज्यों में पहुंच रहे हैं। ऐसे में सीएपीएफ की 45 कंपनियां तमिलनाडु में, 40 असम में, 10 पुडुचेरी में, 125 पश्चिम बंगाल में और 30 केरल में तैनात की जाएंगी। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की 12 कंपनियां चुनाव तैयारियों के तहत पश्चिम बंगाल पहुंची। राज्य की 294 सदस्यीय विधानसभा के लिए अप्रैल-मई में चुनाव होने की संभावना है। दो कंपनियां रेलगाड़ी से दुर्गापुर पहुंची जबकि एक कंपनी वर्द्धमान पहुंची। अधिकारियों ने बताया कि हावड़ा के नजदीक डानकुनि भी सुरक्षाबलों की पांच कंपनिया पहुंच चुकी हैं। वहीं चार अन्य कंपनियां रेलगाड़ी से चितपुर इलाके स्थित कोलकाता रेलवे स्टेशन पहुंची है। चुनाव कार्य में लगे एक अधिकारी ने बताया, ‘जम्मू-कश्मीर से सुरक्षा बलों को यहां बुलाया गया है और वे उन इलाकों में जा रहे हैं जहां उनकी तैनाती की गई है।’ रेलवे स्टेशन पर राज्य में आ रहे सुरक्षाकर्मियों का स्वागत करने के लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और पश्चिम बंगाल पुलिस के अधिकारी मौजूद रहे। निर्वाचन आयोग ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर 25 फरवरी तक पश्चिम बंगाल में केंद्रीय सुरक्षा बलों की 125 कंपनियों को तैनात करने का फैसला किया है।अधिकारियों ने बताया कि आने वाले कुछ दिनों में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की 60 कंपनियां, सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की 30 कंपनियां, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की पांच-पांच कंपनियां पश्चिम बंगाल पहुंचेंगी। इनकी तैनाती करने का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि चुनाव प्रचार शुरू होने पर कोई समस्या नहीं आए। संवेदनशील इलाकों में इनकी तैनाती पर जोर रहेगा।उन्होंने कहा कि केंद्रीय बल रात को गश्त भी करेंगे। अधिकारी ने बताया कि निर्वाचन आयोग ने कोलकाता में एसएसबी की तीन कंपनियों एवं हावड़ा पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र में सीआरपीएफ की पांच कंपनियों को तैनात करने का फैसला किया है जबकि दो कंपनियों की तैनाती हावड़ा ग्रामीण क्षेत्र में की जाएगी। सबसे अधिक सीआरपीएफ की नौ-नौ कंपनियों की तैनाती पुरुलिया एवं झारग्राम में करने की योजना है। सुरक्षाकर्मी प्रत्येक दिन रात आठ बजे तक चुनाव अधिकारी को रिपोर्ट करेंगे। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post