उत्तराखंड: मैदानी जिलों में 24 और पर्वतीय जिलों में 48 घंटे में मिलेगी कोरोना जांच रिपोर्ट



सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। विभाग की कोशिश है कि पर्वतीय जिलों में सैंपल लेने के 48 घंटे और मैदानी जिलों में 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट मिल जाए।




 


देहरादून / सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में प्रतिदिन 10 से 12 हजार व्यक्तियों के सैंपल लिए जा रहे हैं। विभाग का प्रयास है कि पर्वतीय जिलों में सैंपल लेने के 48 घंटे और मैदानी जिलों में 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट मिल जाए। 


सचिवालय मीडिया सेंटर में पत्रकारों से गुरुवार को अनौपचारिक बातचीत में सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने कहा कि केंद्र के निर्देशों के क्रम में प्रदेश में भी सतर्कता बरतने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। सभी जिलों में जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जनता से सुरक्षित शारीरिक दूरी, मास्क पहनने और सैनिटाइजर का प्रयोग करने के सुरक्षा उपायों को अपनाने को कहा जा रहा है। 


कोरोना की रोकथाम के लिए आयुष्मान भारत कार्यालय में हेल्पलाइन भी स्थापित की गई है। उपलब्ध डाटा के आधार पर प्रतिदिन तीन से चार हजार लोगों से संपर्क कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली जा रही है। यदि किसी में शुरुआती लक्षण पाए जाते हैं तो उस व्यक्ति की जांच के साथ ही उपचार की भी व्यवस्था की जा रही है। 



 

एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निर्देशानुसार सभी विभागीय सचिवों को अपने विभागाध्यक्षों व अधीनस्थ अधिकारियों के साथ केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री घोषणा को पूरा करने का कार्य सभी विभागों द्वारा संवेदनशीलता व तत्परता के साथ किया जा रहा है। इसकी समीक्षा भी की जा रही है। इसके लिए सरकार के पास समुचित धनराशि उपलब्ध है।


Sources:JNN