सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

उत्तराखंड: कल प्रदेशभर के कार्मिक पुरानी पेंशन बहाली को लंकर निकालेंगे महारैली, करेंगेसीएम आवास कूच

 


 देहरादून /  पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर प्रदेशभर के कार्मिक कल महारैली निकालेंगे। इसके लिए राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा ने कार्मिकों से अधिक से अधिक संख्या में दून पहुंचकर महारैली में शामिल होने का आह्वान किया है। आपको बता दें कि रैली में हर जनपद से करीब 1000 कार्मिकों से देहरादून पहुंचने को कहा गया हैलंबे समय से संघर्षरत कार्मिकों ने रविवार को मुख्यमंत्री आवास तक चेतावनी रैली निकालने का एलान किया है।


 संयुक्त मोर्चा ने रैली को लेकर तैयारियां पूरी कर ली हैं। बड़ी संख्या में परेड ग्राउंड में एकत्र होकर कार्मिक मुख्यमंत्री आवास के लिए कूच करेंगे। मोर्चा के प्रांतीय अध्यक्ष अनिल बडोनी ने बताया कि इस रैली में प्रत्येक जनपद से करीब 1000 कार्मिकों से देहरादून पहुंचने को कहा गया है। मोर्चा के प्रांतीय महासचिव सीताराम पोखरियाल ने बताया कि लगातार सरकार से पुरानी पेंशन बहाली की मांग की जा रही है, लेकिन अब तक कोई पहल नहीं की गई। ऐसे में कार्मिक सरकार को इस रैली के जरिये सीधी चेतावनी देने जा रहे हैं।


बेरोजगार डिप्लोमा फार्मेसिस्ट नियुक्ति समेत अन्य मांगों को लेकर दिवाली के दिन भी धरने पर डटे रहे। उन्होंने भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी है। प्रशिक्षित बेरोजगार डिप्लोमा (एलोपैथिक) फार्मेसिस्ट विगत 19 अगस्त से एकता विहार में आंदोलनरत हैं। बेरोजगार फार्मेसिस्ट ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में हुई त्रिस्तरीय वार्ता में आइपीएचएस के मानकों में शिथिलता प्रदान करने की सहमति बनी थी पर अभी तक इस पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है।


प्रशिक्षित बेरोजगार डिप्लोमा फार्मेसिस्ट महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष महादेव गौड़ ने बताया कि आठ दिन के आमरण अनशन के बाद मुख्यमंत्री ने इस प्रकरण में जल्द सकारात्मक कार्रवाई का आश्वासन दिया था। वहीं कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत ने धरनास्थल पर आकर अनशन खुलवाया था। ऐसे में उन्हें उम्मीद थी कि राज्य सरकार इस संबंध में जल्द ही कोई निर्णय लेगी पर अभी तक कुछ नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि जब तक 536 पदों को यथावत रखने, 1368 पदों के सृजन संबंधी आदेश और रिक्त पदों पर तत्काल भर्ती प्रक्रिया का विज्ञापन जारी नहीं होता है तब तक धरना जारी रहेगा। धरना देने वालों में जयप्रकाश, जगदीश, अरुण, विजय आदि मौजूद थे।

टिप्पणियाँ

Popular Post