सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

केदारनाथ : तीर्थपुरोहितों को मनाने पहुंचे सीएम धामी, पुनर्निर्माण कार्यों का भी लिया जायजा

 


 रुद्रप्रयाग /  सीएम धामी ने तीर्थ पुरोहितों के साथ बंद कमरे में काफी देर बातचीत भी की। उन्होंन मंत्रियों के साथ मिलकर केदारनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्यों का भी जायजा लिया। इस दौरान सीएम ने कहा कि ये सरकार जन भावनाओं का सम्मान करने वाली सरकार है। तीर्थों के पंडा, पुरोहित और पुजारियों के मान सम्मान को कोई ठेस नहीं पहुंचाई जाएगी। प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा की तैयारियों की समीक्षा और नाराज तीर्थ पुरोहितों को मनाने के लिए मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी धाम पहुंचे। इस दौरान उनके साथ कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और सुबोध उनियाल भी मौजूद थे।  हम सकारात्मक, धनात्मक और विकासात्मक दृष्टिकोण से चारधाम, पंडा, पुरोहित और पुजारी समाज के सम्मान और धार्मिक आस्था की गरिमा के सम्मान के लिए तत्पर हैं।


दरअसल, उत्‍तराखंड चारधाम देवस्‍थानाम बोर्ड भंग करने की मांग को लेकर तीर्थ पुरोहित आंदोलन कर रहे हैं। दो रोज पहले तीर्थ पुरोहितों ने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को बाबा केदार के दर्शन नहीं करने दिए थे, उन्‍हें बगैर दर्शन के लिए धाम से लौटना पड़ा था। यही नहीं, उस दिन धाम में पहुंचे कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत और भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष मदन कौशिक का तीर्थ पुरोहितों ने घेराव भी किया था।तीर्थ पुरोहितों ने मामले का समाधान न होने पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की पांच नवंबर को प्रस्‍तावित यात्रा का विरोध करने का एलान भी किया है। पीएम मोदी को उस दिन केदारनाथ धाम में शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण करना है। उसके बाद से ही राज्‍य सरकार तीर्थ पुरोहितों को मनाने के प्रयास कर रही है। सीएम आज खुद कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल और हरक सिंह के साथ इसी सिलसिले में केदारनाथ पहुंचे। उनकी तीर्थ पुरोहितों से काफी देर बातचीत हुई।सीएम धामी ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी की बाबा केदार के प्रति विशेष आस्था और श्रद्धा है। उनका उत्तराखंड को दुनिया की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक राजधानी के तौर पर विकसित करने का विजन है। पूरी दुनिया के लोग यहां आध्यात्मिक शांति के लिए आएंगे। आधुनिक इतिहास में पहली बार इतने बड़े पैमाने पर केदारनाथ धाम का पुनर्निर्माण किया जा रहा है। पहले चरण के काम हो चुके हैं। दूसरे चरण के काम शुरू हो रहे हैं।


 आदि गुरु शंकराचार्य जी की समाधि का लोकार्पण करने के साथ ही उनकी प्रतिमा का भी अनावरण किया जाएगा।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बीते रोज कहा कि कि देवस्थानम बोर्ड के मसले पर केंद्र सरकार से भी संवाद किया जा रहा है। प्रदेश सरकार जन भावनाओं का सम्मान करने वाली सरकार है। तीर्थों के पंडा-पुरोहित और पुजारियों के मान सम्मान को कोई ठेस नहीं पहुंचाई जाएगी। मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से सचिवालय में बदरीनाथ धाम से जुड़े बदरीनाथ डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत के प्रतिनिधियों ने भेंट की और देवस्थानम बोर्ड से संबंधित ज्ञापन सौंपा।इस दौरान मुख्यमंत्री ने देवस्थानम बोर्ड के संबंध में गठित उच्च स्तरीय समिति के अध्यक्ष मनोहर कांत ध्यान से वार्ता की और चार धाम पुरोहित और पुजारियों की भावना से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार सकारात्मक, धनात्मक और विकासात्मक दृष्टिकोण से चारधाम, पंडा, पुरोहित और पुजारी समाज के सम्मान तथा धार्मिक आस्था की गरिमा के सम्मान के लिए तत्पर है। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को बदरीनाथ धाम का प्रसाद भेंट किया। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल में शामिल सदस्यों को अंगवस्त्र भी भेंट किया।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव