सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

दीपावली के लिए 17 क्विंटल गेंदे के फूलों से सजाया गया बदरीनाथ धाम

 


 दीपावली पर बदरीनाथ धाम में दीपोत्सव के तहत माता लक्ष्मी और कुबेर भगवान की पूजा की जाती है। धाम परिसर में दीये जलाए जाते हैं। धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल का कहना है कि बदरीनाथ धाम ही एक मात्र स्थल है, जहां पर माता लक्ष्मी व कुबेर की एक साथ पूजा की जाती है। वहीं उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) चार नवंबर को बदरीनाथ धाम के दर्शन करेंगे। जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने बताया कि राज्यपाल बदरीनाथ हेलीपैड पहुंचेंगे। राज्यपाल बदरीनाथ धाम के दर्शन करेंगे। इसके पश्चात वे देश के अंतिम गांव में स्थित गढ़वाल स्काउट के कैंप में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग करेंगे।


 दोपहर बाद राज्यपाल हेलीकॉप्टर से देहरादून रवाना होंगे। चारधाम तीर्थयात्रियों की संख्या रिकॉर्ड चार लाख से ज्यादा पहुंच गई है, जिसमें से अकेले दो लाख से अधिक तीर्थयात्री अब तक केदारनाथ धाम पहुंचे हैं। चारधाम यात्रा बस टर्मिनल ऋषिकेश और हरिद्वार बस अड्डे से तीर्थयात्री चारधामों को प्रस्थान कर रहे हैं। ऋषिकेश बस टर्मिनल परिसर पर प्रशासन, पुलिस, पर्यटन, देवस्थानम, परिवहन, नगर निगम, संयुक्त रोटेशन यात्रा हेल्प डेस्क व कोविड जांच केंद्र चल रहा है।बदरीनाथ धाम के कपाट आगामी 20 नवंबर को शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे। गंगोत्री धाम के कपाट पांच नवंबर को गोवर्धन पूजा के दिन बंद होंगेकेदारनाथ व यमुनोत्री धाम के कपाट दिवाली के बाद आगामी छह नवंबर को भैया दूज के दिन शीतकाल के लिए बंद होंगे।



टिप्पणियाँ

Popular Post