सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

सावधान: दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स पहुंचा रेड जोन में

 


 नयी दिल्ली /  राजधानी दिल्ली में दीवाली से पहले ही आबोहवा खराब हो गई है। चारों तरफ धुंध छाने लगा है। जबकि पटाखे और पराली उतनी मात्रा में नहीं जलाई गयी है। आपको बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में एयर क्वालिटी इंडेक्स अलर्ट जोन में पहुंच गया है और दीवाली के बाद स्थिति और भी ज्यादा बिगड़ सकती है। समाचार एजेंसी एएनआई ने अक्षरधाम इलाके की तस्वीरें साझा की । इसके साथ ही लिखा कि राजधानी दिल्ली में दीपावली से पहले हवा प्रदूषित हुई। एयर क्वालिटी रेड जोन श्रेणी में तब्दील हुई।

वहीं, एयर क्वालिटी का पूर्वानुमान लगाने वाली एजेंसी सफर के संस्थापक परियोजना निदेशक गुफरान बेग ने मंगलवार को बताया था कि दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषक में पराली जलाने का योगदान 6 फीसदी रहा जबकि बाकी प्रदूषण का कारण स्थानीय कारक रहे।आपको बता दें कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण के विरुद्ध युद्ध छेड़ रखा है। इसके बावजूद स्थिति बिगड़ती जा रही है। दीवाली से एक दिन पहले जंतर-मंतर पर सुबह पांच बजे तक बेहद खराब स्थिति में रही। इस दौरान एक्यूआई 222.28 दर्ज किया गया।

टिप्पणियाँ

Popular Post