सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

देहरादून: नाबालिग के साथ बाल वनिता आश्रम में दुष्कर्म, तबीयत खराब होने पर चला पता

    देहरादून /    राजधानी देहरादून के तिलक रोड स्थित बाल वनिता आश्रम में एक नाबालिग से दुष्कर्म का मामला सामने आया है। दुष्कर्म का आरोपित भी आश्रम में ही रहता है। शहर कोतवाली पुलिस ने आश्रम के प्रधान की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। आश्रम में निराश्रित और हर तरफ से ठुकराए बच्चे रहते हैं। इस समय आश्रम में करीब 50 बालक और बालिकाएं रह रही हैं। आश्रम में बालक और बालिकाओं के अलग-अलग हास्टल हैं, लेकिन खाना दोनों का एक साथ ही होता। बताया जा रहा है कि इसी दौरान बालक और बालिका के बीच नजदीकियां बढ़ गई और बालक ने बालिका के साथ दुष्कर्म किया। कुछ दिन पहले ही बालिका की तबीयत खराब हुई थी तो उसने इसकी शिकायत होस्टल वार्डन से की।बालिका से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि आश्रम में रहने वाले एक बालक ने उसके साथ दुष्कर्म किया। बालिका का मेडिकल करवाया जा रहा है। बालिका के गर्भवती होने की आशंका जताई जा रही है। हालांकि, इसकी पुष्टि मेडिकल रिपोर्ट आने की बाद ही हो सकेगी। Sources:JNN

डीएवी कॉलेज : उच्च शिक्षा मंत्री के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन

 


 छात्रसंघ चुनाव की मांग को डीएवी में मंगलवार को भी छात्रों को हंगामा जारी रहा। उन्होंने कालेज गेट पर उच्च शिक्षा मंत्री डा. धनसिंह के खिलाफ प्रदर्शन किया। साथ ही चेतावनी दी कि अगर इस बार चुनाव ना हुए या आयु सीमा में दो साल की छूट ना मिली तो छात्र विस चुनाव में सरकार को विरोध करेंगे।मंगलवार दोपहर भी छात्र कालेज में हर रोज की तरह जमा हुए। इसके बाद वे चुनाव की मांग लेकर कालेज में रैली के रूप में घूमे। जिसमें अन्य छात्रों से चुनाव को लेकर राय ली गई। इसके बाद सभी संगठनों के छात्र नेता मुख्य गेट के बाहर पहुंच और उच्च शिक्षा मंत्री डा. धनसिंह के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।


 छात्र नेता उदित थपलियाल और हनी सिसोदिया ने कहा कि छात्र पिछले आठ दिनों से महाविद्यालय में धरने पर बैठे हैं, लेकिन आग्रह के बाद भी उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत उनकी समस्याएं सुनने को राजी नहीं हैं। जिससे छात्रों में आक्रोश है।उन्होंने कहा कि छात्रसंघ विद्यार्थियों की समस्याओं को मंच देने का कार्य करती है, जिसे धीरे धीरे खत्म किया जा रहा है। सरकार ने जब सभी रैलियों, जनसभाओं से संख्या का प्रतिबंध हटा दिया गया है तो छात्रसंघ चुनाव ही क्यों नहीं हो सकते। अगर जल्द इस पर फैसला ना हुआ तो छात्र उच्च शिक्षा मंत्री के आवास घेराव करते हुए सड़कों पर निकलने में भी पीछे नहीं हटेंगे। इस दौरान हनी सिसोदिया, उदित थपलियाल, आकिब अहमद,अंकित बिष्ट, सुमित कुमार, अभिषेक ममगाईं, शोएब अहमद,मनोज कुमार ओर चंद्रशेखर आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

Popular Post