सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

उत्तराखंड: इंडियन पुलिस फाउंडेशन की 2021 सर्वे रिपोर्ट में खुलासा,आमजन का विश्वास जीतने में जीरो है मित्र पुलि

 


लोगों का विश्वास जीतने में उत्तराखंड पुलिस फिसड्डी राज्यों की पुलिस में शामिल है। इंडियन पुलिस फाउंडेशन एंड इंस्टीट्यूट के सर्वे में मित्र पुलिस को 14वां स्थान हासिल हुआ है। जबकि, उत्तराखंड पुलिस देश की उन गिनी चुनी पुलिस में शामिल है, जिस तक लोगों की पहुंच आसान है। इसमें उत्तराखंड पुलिस का सातवां स्थान है। इंडियन पुलिस फाउंडेशन की 2021 सर्वे की रिपोर्ट हाल ही में जारी की गई है। इस सर्वे में देशभर के  लोगों से फीडबैक लिया गया था। इनमें उत्तराखंड के लोग भी शामिल हैं।कुल 29 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की पुलिस के प्रति लोगों की क्या धारणा है इसके संबंध में यह सर्वे किया गया था। इसमें स्मार्ट पुलिस, संवेदनशीलता, सख्ती और अच्छा व्यवहार, पहुंच, जिम्मेदारी, टेक्नोलॉजी अडोप्शन, पक्षपात न करना, भ्रष्टाचार, जवाबदेही और जनता का विश्वास मुद्दे शामिल हैं। देश की सबसे स्मार्ट पुलिस का दर्जा आंध्रप्रदेश को मिला है। जबकि, इस रिपोर्ट में बिहार सबसे फिसड्डी और उससे एक पायदान ऊपर उत्तर प्रदेश पुलिस है। इस सूची में अपनी उत्तराखंड पुलिस का 15वां स्थान है।पुलिस संवेदनशीलता में उत्तराखंड पुलिस का 10वां स्थान है। जबकि, इस सर्वे में उत्तराखंड पुलिस देश की 12वीं सबसे सख्त और अच्छे व्यवहार वाली पुलिस मानी गई है। उत्तराखंड पुलिस उन राज्यों में शामिल है, जहां की पुलिस तक लोगों की आसानी से पहुंच हो जाती है। यानी अधिकारियों और कर्मचारियों से आसानी तक बात पहुंचाई जा सकती है। इस सूची में उत्तराखंड पुलिस का सातवां स्थान है।जबकि, सबसे नीचे छत्तीसगढ़ पुलिस का नंबर आता है। वहीं तेलंगाना पुलिस पहले नंबर है। जवाबदेही के मामले में पुलिस के मुखिया समय-समय पर दिशा निर्देश जारी करते रहते हैं।


Sources:Amarujala

टिप्पणियाँ

Popular Post