25 अप्रैल को रिकार्ड शादियां, हरिद्वार में सवा दो सौ लग्न

 


 अपने बच्चों की शादी धूमधाम से करने का अरमान पाले बैठे माता-पिता के सपने कोरोना के चलते पूरा होने के नाम नहीं ले रहे हैं। हालत यह है कि एक साल बाद फिर से कोरोना संक्रमण की शुरू हुई दूसरी लहर से शादियों पर कोविड का ग्रहण लग गया है।आने वाले रविवार में तो कोविड कर्फ्यू में ही लगभग सवा दो सौ शादियां हैं। अब साप्ताहिक कर्फ्यू में जहां मेहमानों को शादी में शामिल होने में अधिक परेशानी होगी। वहीं, कार्यक्रम भी सीमित संख्या में करने से आयोजकों की समझ में नहीं आ रहा है कि वह किसे बुलाएं और किसे छोड़ दें।कोरोना की दूसरी लहर शुरू होते ही राज्य सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इसमें शादियों के लिए अनुमति लेते हुए गाइडलाइन के नियमों से कार्यक्रम संपन्न कराने होंगे। अभी तक शादियों में दो सौ की संख्या थी, लेकिन यह भी घटाकर सौ करने की घोषणा मुख्यमंत्री ने कर दी है, जबकि लोगों ने पहले ही शादियों की तारीखें तय कर दी थीं।

नाइट कर्फ्यू के साथ ही कोविड कर्फ्यू के बीच शादियां करना चुनौती

लोगों ने मेहमानों को जमकर आमंत्रित करने की योजना बनाई थी। वहीं शान-शौकत से शादियां करने के पूरे इंतजाम किए हुए थे, लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर सारी तैयारियों पर पानी फेर देगी।सबसे बड़ी दिक्कत 25 अप्रैल को निर्धारित की गई शादियों में होने जा रही है। दरअसल, इन शादियों के लिए सभी मेहमानों को कार्ड बांटने के साथ ही फोन पर न्यौता दिया जा चुका है। हलवाई के साथ ही केटरिंग और बैंक्वेंट हॉल भी बुक किए जा चुके हैं, लेकिन 25 अप्रैल को पड़ रहे नाइट कर्फ्यू के साथ ही कोविड कर्फ्यू के बीच शादियां करना चुनौती बन गया है।


ज्योतिष आचार्य विकास जोशी ने बताया कि हरिद्वार शहर और आसपास के क्षेत्रों में 25 अप्रैल के लगभग सवा दो सौ लग्न हैं। उधर, शादियां कोविड कर्फ्यू के दिन पड़ने से लोगों को उनमें शामिल होने में जगह-जगह पुलिस के रहने से भी परेशानी होगी।   

इन तिथियों में कोविड कर्फ्यू में होगी शादी 

रविवार के दिन कोविड कर्फ्यू होने के साथ भी शादियों के लग्न भी पड़ रहे हैं। इनमें 25 अप्रैल, दो मई, नौ मई और 16 मई की रविवार की शादियां हैं। इससे इन सभी तिथियों में पड़ने वाली शादियों को कोविड कर्फ्यू के बीच सादे समारोह में करानी होगी। अनुमति लेकर शादियों के कार्यक्रम कराए जा सकते हैं, लेकिन निर्धारित संख्या और कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए शादियां करानी होगी। इसके लिए शहर में सिटी मजिस्ट्रेट और ग्रामीण क्षेत्र में एसडीएम से अनुमति ली जाएगी।

- केके मिश्रा, अपर जिलाधिकारी, हरिद्वार


Sources:Agency News