सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

री-एजुकेशन कैंप में उइगर महिलाओं के साथ होता है रेप,शिविर से भागी महिला बंदी ने बताई चीन की हैवानियत

इन दिनों एक रिपोर्ट के सामने आने के बाद एक बड़ा सवाल सामने है कि क्या चीन दुनिसा और इंसानियत के लिए खतरा बन गया है। सीधे खबर आना मीडिया पर पाबंदी जैसे देशों में मुश्किल है। इसी फायदा उठा चीन उइगरों पर जुल्म करता है। अजान पर पहरा, टोपी-बुर्के पर पाबंदी जैसी बातें तो पहले भी सामने आती रहती हैं। ये तो दुनिया जानती है कि 2014 से ही चीन ने उइगरों के लिए ट्रेनिंग कैंप के नाम पर कंसंट्रेशन कैंप बनाए जहां उइगर पुरूषों-महिलाओं को रखा जाता है। लेकिन इन ट्रेनिंग कैंपों से खबर बाहर नहीं आती। लेकिन इस बार इस कैंप से एक महिला ने बाहर आकर जो कहा उसे सुनकर हैवानियत भी शर्मशार हो जाएगी। चीन की क्रूरता और हैवानियत का खुलासा बीबीसी ने अपनी रिपोर्ट में किया है। कंसंट्रेशन कैंप में रह रही महिला ने अपनी आप-बीती सुनाते हुए कहा है कि चीन की कम्युनिस्ट सरकार की तरफ से चलाए जा रहे री-एजुकेशन कैंप में महिलाओं के साथ पूरी योजना के साथ रेप किया जा रहा है। उन्हें यौन प्रताड़ना का शिकार बनाया जा रहा है और यातनाएं दी जा रही हैं।महिला ने कहा कि आधी रात के बाद किसी भी वक्त वे सेल में आ जाते और कुछ औरतों को उठा कर ले जाते थे।वहां कोई सर्विलांस कैमरा नही होता था। फिर उनके साथ मास्क पहना कोई मास्क पहना कोई आदमी बलात्कार करता था। महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्कार भी होता था। Sources:AgencyNews

टिप्पणियाँ

Popular Post