सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

इंटरनेट मीडिया से हो रहे चुनाव प्रचार में ग्रामीण भारत का एक बड़ा वर्ग अछूता

जैसा कि आपको मालूम है कि कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखकर चुनाव आयोग ने वर्चुअल रैली और प्रचार प्रसार के निर्देश जारी किये थे। जैसा की आपको मालूम है कि इस वक्त देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैंऔर कोरोना की वजह से न तो रैलियां हो रही हैं और न ही रोड शो के जरिये राजनीतिक दल जनता के बीच अपना शक्ति प्रदर्शन ही कर पा रहे हैं।  लिहाजा सारा चुनाव प्रचार डिजिटल प्रारूप में ही सिमट कर रह गया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की पाबंदी के कारण राजनीतिक दल और नेता इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों के जरिये जनता के बीच अपनी पैठ बनाने में लगे हैं। इन्हीं मंचों पर अपनी प्रचार सामग्री को परोसकर पार्टियां चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुटी हैं। मतदाताओं को लुभाने के लिए इस बार राजनीतिक पार्टियां लोकगीतों के रूप में अपने अपने प्रचार गीत बनवाकर  इंटरनेट मीडिया के मंचों पर उन्हें साझा करके जनता के दिलोदिमाग पर छा जाने को बेताब हैं। इस संग्राम में आगे निकल जाने की स्पर्धा लगभग सभी दलों में दिखाई दे रही है। ऐसे में यहां यह सवाल तैर रहा है कि लोकतंत्र के इस चुनावी त्योहार में क्या यह

पूर्व सीएम हरीश रावत की सुरक्षा में चूक,मंच पर चाकू लेकर चढ़ा युवक




हाल ही में पंजाब में प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक को लेकर भाजपा में उबाल है। इसका रिएक्शन काशीपुर में देखने को मिलाएउत्तराखंड में कांग्रेस के कद्दावर और वरिष्ठ नेता व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की सुरक्षा में भारी चूक का मामला सामने आया है। ऊधमसिंह नगर के काशीपुर में उनकी जनसभा में मंच पर उस वक्त अफरातफरी मच गईए जब एक युवक हाथ में चाकू लिए मंच पर चढ़ गया। गनीमत यह रही कि हरदा समेत सभी नेता मंच से उतर चुके थे।

 यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उसे दबोचकर चाकू छीना और मंच से नीचे उतारा। बताते हैं कि पकड़ा गया व्यक्ति मानसिक रूप से विक्षिप्त है युवक को पुलिस को सौंप दिया गया है। बताते हैं कि कुछ दिन पूर्व उक्त वयक्ति ने टावर पर चढ़कर पीएम से बात कराने की जिद भी की थी। यूथ कांग्रेस के विधानसभा क्षेत्र प्रभारी प्रभात साहनी की ओर से दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। 


जैसा कि मालूम हो कि कल शाम रामलीला मैदान में आयोजित जनसभा के दौरान पूर्व सीएम हरीश रावत अपना संबोधन समाप्त करने के बाद नीचे उतरे। तभी भगवा गमछाधारी प्रतापपुर निवासी विनोद मंच पर चढ़ गया। माइक संभालते हुए उसने जय श्रीराम के नारे लगाने शुरू कर दिए। 

कार्यकर्ताओं ने उसे रोकते हुए तुरंत माइक बंद कर दिया। इससे आक्रोशित विनोद ने लंबा चाकू निकाल लिया और जय श्रीराम नहीं बोलने पर जान से मारने की धमकी देने लगा। यूथ कांग्रेस नेता प्रभात झा व अन्य ने लोगों ने उसे बमुश्किल दबोच लिया। कांग्रेसियों का कहना है कि कि पूर्व सीएम की सुरक्षा में यह चूक प्रशासन की हीलाहवाली की वजह से हुई है। पीएम से बात करने की जिद कर रहा था। बमुश्किल उसे नीचे उतारा गया था।




टिप्पणियाँ

Popular Post