सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

फिरोजपुर : सतलुज नदी में मिली पाकिस्तानी नाव,जांच में जुटीं एजेंसियां



एक बड़ी खबर सामने आई है आपको बता दें कि पंजाब के फिरोजपुर जिले में सीमा सुरक्षा बल ने सतलुज नदी से एक पाकिस्तानी नाव बरामद की है। यह नाव बीओपी डीटी मल के पास मिली है। इसकी जांच की जा रही है कि इसमें कौन सवार था फिलहाल अभी  इसकी जानकारी नहीं हो सकी है। 

सुरक्षा एजेंसियां मामले की जांच पड़ताल में जुट गई हैं।गौरतलब है कि  जहां से पाक नाव बरामद की गई है  यही से सतलुज नदी पाकिस्तान से भारत में प्रवेश करती है। कई बार यहां से तस्करों को हेरोइन संग पकड़ा जा चुका है। वहीं इस इलाके में हथियारों की तस्करी भी पाकिस्तान करता है। आपको बता दें कि फिरोजपुर पंजाब का बेहद संवेदनशील जिला है। 

जब पांच जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला फिरोजपुर जिले में फंस गया था। पाकिस्तान से सीमा लगने की वजह से फिरोजपुर बेहद संवेदनशील इलाका है। पीएम का काफिला इस हाइवे पर तकरीबन 20 मिनट बेहद असुरक्षित एरिया में रुका रहा। जिस इलाके में मोदी का काफिला रुका था वह आतंकियों के अलावा हेरोइन तस्करों का गढ़ माना जाता है। पिछले साल सितंबर माह में इसी क्षेत्र में आतंकी वारदात को अंजाम दिया गया था। 

लवाई भाई से कुछ दूरी पर जहां काफिला रुका था  वहां से भारत.पाक सीमा सिर्फ 30 किलोमीटर दूर है और इस क्षेत्र में लगातार टिफिन बम और अन्य विस्फोटक पदार्थ मिलते रहे हैं।जैसा कि मालूम है कि  जलालाबाद कस्बे में 15 सितंबर 2021 में धमाका हुआए वह भी फिरोजपुर के नजदीक है और केंद्रीय एजेंसियों की जांच में साफ हो चुका है कि वह आतंकी हमला था। 

टिप्पणियाँ

Popular Post